Latest Newsराम मंदिर

Ram lalla Virajman Photo : राम के पोशाक सोना के और खिलौना चाँदी का, रामलला की ऐसी प्यारी छवि को हर कोई बिना पलक झपकाए देख रहा।

रामलला अब पूरे ठाट बाट और वैभव के साथ अपने स्थान पर विराजमान हो चुके हैं। 5 साल के रामलला को सोने की जरी और तारों से बनी पोशाक पहनाई गई है तो खेलने के लिए चांदी के खिलौने भी रखे गए हैं.

भगवान राम का दिव्य और भव्य रूप देखकर हर किसी की आंखें नम हो गई। रामलला की ऐसी प्यारी छवि को हर कोई बिना पलक झपकाए देख रहा था। अपने प्यारे रामलला के भव्य मंदिर में विराजमान होने पर पूरे देश में दिवाली मनाया गया।

अब सुबह से ही प्रभु राम के दर्शन के लिए भारी मात्रा में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। यह श्रद्धालु लगातार लाइन में लगे हुए हैं और जल्द से जल्द रामलाल के दर्शन करना चाहते हैं।कुछ भक्त तो रात से ही कतार में लगे हुए हैं।सोने, हीरे-पन्‍ने से बने दिव्‍य मुकुट, तिलक, आभूषण, सोने के तारों और जरी से बनी पोशाक रामलला की श्‍यामल मूर्ति पर सुशोभित हो रही है. इतना ही नहीं रामलला की प्रतिमा के सामने खिलौने भी रखे गए हैं.

ये भी पढें  Ramlala Pran Pratishtha : आखिर क्या होता है प्राण - प्रतिष्ठा ? क्यों पत्थर की मूर्ति के लिए भी किया जाता है ये प्रथा ? जानें शायद आपको भी नहीं होगा पता।

चांदी के खिलौने

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अनुसार मंदिर में 5 वर्ष के बालक के रूप में रामलाल विराजे हैं इसलिए पारंपरिक ढंग से उनके सामने खेलने के लिए चांदी के खिलौने रखे गए हैं।इन खिलौनों में चांदी का झुनझुना, हाथी, घोड़ा, ऊंट, खिलौनागाड़ी और लट्टू शामिल हैं.

ठंड के कारण जलाधिवास भी थोड़ी देर

दरअसल राम लाल काफी छोटे हैं इसलिए लोग उन्हें वात्सल्य की नजरों से देख रहे हैं और उनकी हर सुख सुविधा का ध्यान रखा जा रहा है।बताया जा रहा है की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा से पहले किए गए अनुष्ठानों में जब प्रतिमा का अधिवास कराया जा रहा था तो जलाधिवास के तहत रामलला की मूर्ति को जल में रखा गया था. लेकिन कड़ाके की ठंड को देखते हुए यह जलाधिवास तय समय से कम देर का ही किया गया ताकि रामलला को ठंड ना लग जाए.

ये भी पढें  रील बनाना परा भारी लगा 36 हज़ार का जुर्माना।

सोने की बनी है पीतांबरी पोशाक

वही रामलाल की पोशाक भी बेहद खास है। रामलाल बनारसी वस्त्र की पीतांबर धोती और लाल रंग के पटके अंग वस्त्रम से सुशोभित है।इन वेस्टन पर शुद्ध सोने की जारी और तारों से काम किया गया है। वस्त्र में वैष्णव मंगल चिन्ह- शंख, पद्म, चक्र और मयूर आदि अंकित हैं. मंदिर ट्रस्‍ट के अनुसार इन वस्त्रों का निर्माण श्री अयोध्या धाम में रहकर दिल्ली के वस्त्र सज्जाकार श्री मनीष त्रिपाठी ने किया है.