Latest Newsधार्मिकराम मंदिर

Ram Mandir : राम मंदिर में शामिल हुए इमाम को मिली जान से मारने की धमकी फतवा हुआ जारी

श्री रामलला के प्राण प्रतिष्ठा में शामिल होने के बाद ऑल इंडिया इमाम संगठन के मुख्य इमाम डॉक्टर इमाम उमर अहमद इलियासी के खिलाफ फतवा जारी किया गया है। उन्होंने मीडिया के सामने कहा कि 22 जनवरी के बाद से लगातार उन्हें धमकी पर कॉल आ रहे हैं.

अयोध्या में राम मंदिर में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के बाद ऑल इंडिया इमाम संगठन के मुख्य के खिलाफ फतवा जारी कर दिया गया है. फतवा जारी होने के बाद इमाम उमर अहमद इलियासी ने कहा कि उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही है और उन्होंने इसको रिकॉर्ड भी कर लिया है।

ये भी पढें  Viral News : प्रियंका मिश्रा पुलिस विभाग से इस्तीफा देने के बाद फिर से पड़ी मुसीबत में, 48 घंटे में छिन गई थी वर्दी; जाने वजह

उमर अहमद इलियासी ने कहा कि मुख्य इमाम के रूप में उन्हें राम मंदिर जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र से निमंत्रण आया था मैंने दो दिनों तक विचार किया और फिर देश के लिए सद्भाव के लिए अयोध्या जाने का फैसला किया.उन्होंने कहा फतवा कल जारी किया गया था लेकिन मुझे 22 जनवरी के शाम से ही धमकी भरे कॉल आ रहे हैं।इमाम डॉक्टर इमाम उमर अहमद इलियासी ने आगे कहा कि कुछ कॉल उन्होंने रिकॉर्ड भी किए हैं जिसमें कॉल करने वाले ने मुझे जान से मारने की धमकी दी है।

Ram Mandir
राम मंदिर में शामिल हुए इमाम को मिली जान से मारने की धमकी फतवा हुआ जारी

उन्होंने कहा कि जो लोग मुझे प्यार करते हैं देश से प्यार करते हैं वह मेरा समर्थन करेंगे। यह कोई गुनाह नहीं है मैं इसकी माफी नहीं मांगूंगा।इमाम उमर अहमद इलियासी ने कहा कि जो लोग समझ में मेरे शामिल होने से मुझसे नफरत कर रहे हैं। उन्हें ऐसे करना है तो वह पाकिस्तान चले जाए। मैंने प्यार का पैगाम दिया है और मैं किसी से भी माफी नहीं मांगूंगा। इस्तीफा नहीं दूंगा। वह जो चाहे कर ले।

ये भी पढें  National Payment Corporation of India : अगर आप भी करते हैं ऑनलाइन पेमेंट तो यह खबर है आपके लिए 1 जनवरी से बदल जाएंगे यह नियम निपट ले अपने सारे काम

रामलला के प्रतिष्ठा समारोह में अखिल भारतीय इमाम संगठन के मुख्य डॉ इमाम उमर अहमद इलियासी पहुचे थे। जिसके बाद उनके खिलाफ फतवा जारी किया गया है। इसे लेकर विश्व हिंदू परिषद ने विरोध जताया है। उन्होंने इसकी निंदा करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। वीएचपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा कि प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होना कुछ जिहादी कट्टरपंथी मुफ्तियों को अच्छा नहीं लगा। जिसकी वजह से मुफ्तियों के एक ग्रुप द्वारा फतवा जारी किया गया है।