AmazingIndia News

Ajab Gajab News : बिना पढ़े दिया अंग्रेजी का पेपर, फेल होने का पूरा यकीन, निबंध की जगह ऐसी बात लिख आई लड़की

जब से देश में बोर्ड के एग्जाम शुरू हुए हैं तब से कोई ना कोई एग्जाम की कॉपी सोशल मीडिया पर वायरल हो ही रही है. बोर्ड एग्जाम्स की कॉपियां चेक करने के दौरान ऐसी ऐसी बातें पढ़ने को मिल रही हैं कि अब टीचर्स के साथ सोशल मीडिया यूजर्स की हंसी भी नहीं रूक रही है. भारत में इन दोनों हर जगह एग्जाम चल रहे हैं. कई जगह पर बोर्ड के एग्जाम अभी चल ही रहे हैं तो कहीं जगह खत्म भी हो गए हैं.

हर तरफ अब कॉपियां को जांचने का काम किया जा रहा है। समय से रिजल्ट आ जाए इसके लिए हर कोई मेहनत कर रहा है क्योंकि इसके बाद बच्चों को आगे की प्रक्रिया शुरू करनी होती है और नए क्लास में एडमिशन लेना होता है. इस वजह से टीचर्स भी कॉपी जल्दी-जल्दी जांचने में लगे हुए हैं लेकिन इसी भी सोशल मीडिया पर कुछ स्टूडेंट्स की कॉपियां काफी वायरल हो रही हैं.

कई बार स्टूडेंट्स अपनी पढ़ाई सही से नहीं करते. चूंकि उन्हें भी पता है कि बोर्ड एग्जाम्स के रिजल्ट कितने महत्वपूर्ण होते हैं. इस वजह से पास होने के लिए बच्चे जुगाड़ भी लगते हैं. कुछ बच्चे आंसर शीट में पैसे डाल देते हैं तो कुछ बच्चे ऐसी बातें लिख देते हैं जिसे पढ़ कर टीचर्स के होश उड़ जाते हैं. हाल ही में जबलपुर में एक महिला टीचर ने दो कॉपियां को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया इसमें छात्रों ने सवाल के जवाब की जगह टीचर्स को इमोशनल कर देने वाली रिक्वेस्ट लिखी.

पहला मामला अंग्रेजी की परीक्षा का है. 12वीं की छात्रा को लगा कि उसका अंग्रेजी का पेपर अच्छा नहीं हुआ है इस वजह से उसने निबंध की जगह टीचर के सामने खुद की रिक्वेस्ट लिख दी. उसने लिखा कि अगर उसे फेल कर दिया गया तो उसे मां-बाप आगे नहीं पढ़ाएंगे और उसकी शादी करवा देंगे ऐसे में उसे पास कर दिया जाए.

ये भी पढें  शिवलिंग को पत्थर समझ तेज करने लगा औजार, अचानक फूट पड़ी दूध की धार, मिनटों में भरा तालाब, रहस्यमय कथा

कॉपी में ऐसी इमोशनल बातें लिखना अब तो बड़ा कामन हो गया है. पिछले कुछ सालों से कई छात्रों ने एक नया ट्रेंड शुरू कर दिया है. छात्र अपनी आंसर शीट में भगवान का नाम लिखकर जवाब देना शुरू कर रहे हैं. एक छात्रा ने पहले पन्ने पर भगवान सरस्वती की वंदना की. वही एक अन्य छात्र ने शिव जी का नाम लिखा.टीचर के मुताबिक़, इन सभी हथकंडों का उनपर कोई असर नहीं पड़ता. वो सिर्फ सही जवाब के आधार पर अंक देते हैं