Amazing

क्या आप जानते हैं.. नेवले पर क्यों नहीं होता सांप के जहर का असर? जबकि मर जाते हैं बड़े-बड़े जानवर

सांप एक ऐसा जीव है जिसके बारे में सुनकर हर कोई डर जाता है. वही सांप अगर आपके सामने आ जाए तो कुछ सेकेंड के लिए तो समझ नहीं आता है कि क्या किया जाए. ऐसे में अगर सांप आपको काट ले और मौके पर इलाज ना मिले तो आपकी जान का जाना भी तय है. इसके बावजूद सांप का जानी दुश्मन माना जाने वाला नेवला आखिर क्यों सांप के जहर से बच जाता है?

आज हम आपको बताएंगे कि आखिरकार सांप के जहर से जब बड़े-बड़े जानवर तक नहीं बच पाते हैं तो नेवला कैसे बच जाता है। आपने शायद ही कभी इस बारे में सोचा होगा कि सांप के काटने के बाद भी नेवला उससे कैसे जूझता रहता है। बड़े से बड़े सांपों के आगे नेवला टिका रहता है और ज्यादातर मामलों में उसे मारकर ही दम लेता है.आखिर वो इस खतरनाक जीव के जहर से बच कैसे जाता है।

नेवले के बच्चे को तो सांप खा लेते हैं लेकिन जब वयस्क नेवलों की बात आती है तो वह सांप को मार डालते हैं दरअसल नेवलों के शरीर में एसिटाइलकोलिन (nicotinic acetylcholine receptor) होता है। ये एक न्यूरोट्रांसमीटर होता है, जो उनके दिमाग में मौजूद होता है। यह खून में मिले विष के न्यूरोटॉक्सिक इफेक्ट को कम कर देता है। इस वजह से नेवलों की सांप के जहर से मौत नहीं होती। यह जहर के प्रति रोधी की तरह काम करता है लेकिन कई बार सांप भी नेवर पर भारी पड़ जाते हैं

फॉरेस्ट वाइल्डलाइफ वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक नेवले और सांप की दुश्मनी प्राकृतिक रूप से होती है। सांप नेवलों के लिए बस एक भोजन मात्र है। वह सांपों का शिकार सिर्फ खाने के लिए करते हैं और इंटरेस्टिंग बात यह है कि अधिकतर पहले हमला भी नहीं करते हैं। वह सांप के हमले से खुद को या अपने बच्चों को बचाने के लिए हमला करते हैं। डियन ग्रे मॉन्गूस को सबसे खतरनाक स्नेक किलर, यानी सांपों का दुश्मन माना जाता है। ये किंग कोबरा तक को मारने में सक्षम है।