EntertainmentLatest News

Paid Menstrual Leave : स्मृति ईरानी ने कंगना रनौत के पीरियड पर पेड लीव के बयान को किया सपोर्ट, उन्होंने कहा- यह कोई रुकावट नहीं है

पीरियड पैड लीव पर स्मृति ईरानी के बयान को लेकर अब उनके सपोर्ट में कंगना रनौत आ गई है। कंगना ने कहा कि पीरियड्स किसी तरह की कोई बीमारी नहीं है। यह कोई रुकावट भी नहीं है केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पेड पीरियड्स की पॉलिसी पर अपनी राय रखी जिसके बाद हर जगह धमाल मच गया।

View this post on Instagram

A post shared by Kangana Ranaut (@kanganaranaut)

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पीरियड्स कोई रुकावट नहीं है और महिलाओं को पेड लीव लेने की जरूरत नहीं है।अब इस मुद्दे पर बॉलीवुड की बेबाक गर्ल कंगना रनौत भी उनका सपोर्ट कर रही हैं। कंगना ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का सपोर्ट करते हुए अपना बयान दिया और एक्ट्रेस में इंस्टा स्टोरी पर भी लंबा चौड़ा नोट लिखा है।

ये भी पढें  Kangana Ranaut's Oops Moment: अभिनेत्री की गलतियां, धोखाधड़ी रोधी बिल फॉर रिलेशनशिप कानून पर व्यंग्य

कंगना ने स्मृति ईरानी के इस बयान को सपोर्ट किया है और उन्होंने लिखा है कि वर्किंग महिला एक मित्थ है मानव इतिहास में कोई ऐसी महिला नहीं है जो काम ना करती हो खेतों में काम करने से लेकर घर संभालते तक बच्चों को पालने तक महिलाएं हमेशा काम ही करती हैं।

इस दौरान परिवार समाज और देश के प्रति उनकी जिम्मेदारी में भी कभी कोई आगे नहीं आया है।उन्होंने कहा यह कोई बीमारी नहीं है कंगना ने कहा अगर किसी महिला को कोई स्पेशल मेडिकल कंडीशन ना हो महिलाओं को पीरियड के लिए पेड लीव की जरूरत नहीं है।सभी को इस बात को समझना चाहिए पीरियड्स किसी भी तरीके की बीमारी या रुकावट नहीं लाती है पीरियड्स पर स्मृति ईरानी ने क्या कहा?

ये भी पढें  Rakhi Gulzar : एक्टर के हम उम्र होने के बावजूद निभाया उनकी मां क्या रोल, दो सितारों संग मचाई जमकर धूम, मिला सपनों का राजकुमार

बता दें कि स्मृति ईरानी ने राज्यसभा में इस मुद्दे पर बात करते हुए कहा था कि ‘पीरियड्स महिलाओं के लिए कोई बाधा नहीं है. यह उनके लाइफ की जर्नी का एक हिस्सा है. वहीं अब वर्किंग वुमन के नाम पर पीरियड्स को लेकर छुट्टी लेने की बात बेमतलब है.

हमें ऐसे मुद्दे नहीं उठाने चाहिए जिसमें महिलाओं को बराबरी के अधिकार से वंचित रहना पड़े. पीरियड्स की छुट्टी से वर्कफोर्स में महिलाओं के खिलाफ भेदभाव हो सकता है.’