Amazing

लड़कों ने स्टार्ट किया गजब का धंधा, घर पर भूत होने का दिया सर्टिफिकेट, आत्माओं के दम पर कमाए पैसे

यूं तो आज इंडिया में बिजनेस की कोई कमी नहीं है और ना ही बिजनेस आईडियाज की कोई कमी है।आपने कई सारे अनोखे बिजनेस सुने होंगे लेकिन आज हम जिस बिजनेस के बारे में आपको बताने जा रहे हैं वह बिल्कुल ही अलग है। यह काम करना जितना मुश्किल है उतना ही ज्यादा इंटरेस्टिंग भी है।

आपने बहुत लोगों को देखा होगा जिनका बिजनेस सेंस कमल का होता है और वह हर किसी चीज में मुनाफा कमा लेते हैं। इसके लिए वह किसी भी एक्सपीरियंस का भी होना जरूरी नहीं समझते हैं और ना ही वह यह सोचते हैं कि उनका बिजनेस ग्राउंड से होना जरूरी है।अगर आपके दिमाग में धांसू आइडिया आते हैं तो आप भी पैसा कमा सकते हैं और पैसा कमाने के लिए अलग-अलग रास्ता भी निकाल लेते हैं।आज हम आपको दो ऐसे लड़कों की कहानी बताएंगे जिन्होंने गजब का धंधा शुरू किया।

ये भी पढें  Viral Video : आनंद महिंद्रा को पसंद आया लड़के के ट्रैक्टर चलाने का अंदाज, वीडियो शेयर कर कहीं यह बात

आपने बिजनेस के कई सारे आइडिया सुने होंगे लेकिन आज हम जिस बिजनेस आइडिया के बारे में आपको बता रहे हैं वह बिल्कुल अलग है और काफी इंटरेस्टिंग भी है
दोनों लड़के थाइलैंड के चियांगमाइ प्रोविंस में स्थित राजामंगला यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी में पढ़ते हैं. उन्होंने पढ़ते हुए ही एक बिजनेस चलाया है, वो भी भूत-प्रेतों के दम पर.

21 साल के विफेई शेंग और 22 साल के स्रेत्थावुट बूनप्राखोंग ने मिलकर भूत-प्रेतों की मौजूदगी का सर्टिफिकेट देने का धंधा शुरू किया है. उन्होंने साथ में मिलकर यह बिजनेस चलाया जिससे वे घरों में जाकर रहते हैं और तय करते हैं कि इसमें भूत है या नहीं।उन्होंने इसके लिए बाकायदा विज्ञापन भी निकले हैं।सोशल मीडिया पर वह बताते हैं कि हम जिन घरों और अपार्टमेंट में सो सकते हैं जिनमें भूत होने की आशंका हो यहां रहने के बाद वह सर्टिफिकेट भी देते हैं कि घर में भूत है या नहीं उनका यह बिजनेस आइडिया वायरल हो गया है लेकिन वह बात अलग है कि उन्हें अभी तक कोई क्लाइंट नहीं मिले हैं।

ये भी पढें  जानिए देश का एक ऐसा गांव जहां शादी से पहले बनना पड़ता है मां, वरना लड़कियां बदल देती हैं अपना पति

दोनों ने मिलकर यह सर्विस तो शुरू कर दी है लेकिन इसका रेट फिक्स नहीं है।पैसे बार्गेन किया जा सकते हैं भूत वाले घरों के अलावा हांटेड वेन्यू और शमशान घाट में भी सोने की सर्विस दी जाती है. स्रेत्थावुट का कहना है कि वो पहले भूतों से डरते थे लेकिन इस काम के ज़रिये वो खुद को भी यकीन दिलाना चाहते हैं कि भूत नहीं होते. इतना ही नहीं वे इस काम के लिए ज़रूरी चीज़ें अपने साथ हमेशा रखते हैं. यहां तक कि ताबीज़ और धागे बांधने में भी वो नहीं हिचकिचाते.