जब मेगास्टार अमिताभ बच्चन को सार्वजनिक रूप से पीटा गया था लाठी से, अब बरसों बाद दिखा पुराना दर्द, जानिए पूरी खबर

मुंबई: बॉलीवुड इंडस्ट्री के सुपरस्टार कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन के करोड़ों-करोड़ों फैंस आज भी बिग बी की फिल्में देखना पसंद करते हैं, वहीं एक्टर के एक-एक मुंह पर आहें भरने वाले फैंस को शायद ही पता होगा कि अमिताभ बच्चन के… फिल्मी दुनिया में जगह बहुत मेहनत के बाद आज पहचान मिली है अमिताभ बच्चन जब फिल्मी दुनिया में बिल्कुल भी नहीं थे वो लाठी लेकर फिल्म के सेट पर आए हैं, जी सुनने में बड़ा अजीब लगता है लेकिन ये सच है . अमिताभ बच्चन ने खुद सोशल मीडिया पर अपने फैंस के बीच शेयर किया ये किस्सा!

साल 2018 में अमिताभ बच्चन ने अपनी फिल्म मुंबई टू गोवा का अनुभव भी सोशल मीडिया पर शेयर किया था और अभिनेता ने इस फिल्म के निर्देशक महमूद का शुक्रिया अदा करते हुए कई बातें भी लिखी थीं, इस दौरान अमिताभ बच्चन ने अपने पोस्ट में खुलासा किया कि जबकि उनके डांस कोरियोग्राफर डांस प्रैक्टिस के दौरान पीएल राज उन्हें डंडे से पीटते थे, एक्टर ने अपने पोस्ट में ये भी लिखा कि डांस सिखाते वक्त कोरियोग्राफर उनसे कई घंटों तक डांस रिहर्सल करवाते थे!

अमिताभ बच्चन ने इस फिल्म के बारे में अपना अनुभव साझा करते हुए बताया कि उन्होंने फिल्म के मशहूर गाने देखा ना ही रे को प्रोजेक्शन के जरिए शूट किया था, वहीं बिग बी ने पोस्ट के अंदर के सफर को बताया कि चलती बस में गाने को शूट करना काफी मुश्किल था. इसलिए इसे स्टूडियो में शूट किया गया था, जबकि अभिनेता ने अपना अनुभव साझा किया और लिखा कि पुरी का ने उन्हें प्रोत्साहित किया था, फिल्म के निर्देशक महमूद भाई ने उन्हें नृत्य करने के लिए प्रोत्साहित किया और वह एक के बाद एक स्पॉट बॉय थे। जूस भी मांगते थे!

2024 में PM मोदी फिर बनेंगे प्रधानमंत्री वंदे भारत ट्रेन में खराब खाने की शिकायत टीम इंडिया के इन 2 खिलाड़ियों ने ‘तिलक’ लगवाने से किया मना कौन हैं Devi Chitralekha, जो हर मामले में देती हैं Jaya Kishori को टक्कर देश में 834 लोगों पर केवल 1 डॉक्टर, 80 फीसदी एलोपैथिक
2024 में PM मोदी फिर बनेंगे प्रधानमंत्री वंदे भारत ट्रेन में खराब खाने की शिकायत टीम इंडिया के इन 2 खिलाड़ियों ने ‘तिलक’ लगवाने से किया मना कौन हैं Devi Chitralekha, जो हर मामले में देती हैं Jaya Kishori को टक्कर देश में 834 लोगों पर केवल 1 डॉक्टर, 80 फीसदी एलोपैथिक