मुलायम सिंह यादव को चुनावी अखाड़े में लाया ये नेता, खुद के बच्चों को रखा सत्ता से दूर

Copy

आज हम आपको जेवर विधानसभा क्षेत्र के पहले विधायक की किस्से बताने जा रहे हैं, जिन्होंने मुलायम सिंह यादव को राजनीति के क्षेत्र में लाने में अहम भूमिका निभाई, लेकिन अपने बच्चों को हमेशा राजनीति से दूर रखा। दिलचस्प है आज के दौर की राजनीति, कोई विधानसभा चुनाव में अपनी बहू के टिकट पर जोर दे रहा है तो किसी की बहू-बेटे दूसरी पार्टी में जाकर चुनाव लड़ने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं. इन सबके बीच आज हम आपके लिए एक ऐसी खबर लेकर आए हैं, जिसे पढ़कर आप भी यही सोचेंगे कि आजादी के बाद के शुरुआती सालों में भारत की राजनीति कितनी अच्छी थी.

अपने बच्चों को राजनीति में न आने दिया

आज हम आपको एक ऐसे नेता के किस्से बताएंगे, जिसने अपने बच्चों को कभी राजनीति में नहीं आने दिया, बल्कि मौजूदा सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव को पहला चुनाव लडऩे में अहम भूमिका निभाई, या यूं कहें कि उन्हें चुनावी मैदान के अखाड़े में लाने में अहम भूमिका निभाई ।

जेवर विधान सभा के पहले विधायक

उत्तर प्रदेश की जेवर विधानसभा वर्ष 1957 में अस्तित्व में आई और उस वर्ष हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की मजबूत लहर के बाद भी प्रजा सोशलिस्ट पार्टी ने जेवर सीट जीती और ठाकुर छत्रपाल सिंह जेवर के पहले विधायक बने। ठाकुर छत्रपाल सिंह उस दौर के बड़े समाजवादी नेता थे और जयप्रकाश नारायण के करीबी थे।

समाजवादी के कहने पर भी बेटे ने नहीं लड़ा चुनाव

हालांकि, वर्ष 1962 में जेवर की यह सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित थी और ठाकुर छत्रपाल ने फिर किसी अन्य सीट से चुनाव नहीं लड़ा। सीट आरक्षित होने के बाद ठाकुर छत्रपाल सिंह संगठन के काम में लग गए और अपने सिद्धांतों की वजह से उस समय के बड़े समाजवादी नेताओं के कहने पर भी उन्होंने किसी और सीट से चुनाव नहीं लड़ा. ठाकुर छत्रपाल सिंह के तीन बेटे हैं। लेकिन उन्होंने कभी भी अपने किसी बेटे को राजनीति में आने नहीं दिया।

कई बड़े नेताओं के साथ काम किया है

ठाकुर छत्रपाल सिंह के छोटे बेटे ठाकुर कर्णेश सिंह ने ज़ी न्यूज़ को बताया कि 1967 के चुनाव में सोशलिस्ट पार्टी ने इटावा जिले की विधानसभा सीटों की जिम्मेदारी तीन नेताओं कर्पूरी ठाकुर, ठाकुर छत्रपाल सिंह और अब्बास अली को दी थी। इटावा जिले के जसवंतनगर विधानसभा के विधायक नाथू सिंह थे, जो उस समय सोशलिस्ट पार्टी के एक मजबूत नेता थे।

1967 में मुलायम सिंह पर जताया भरोसा

ऐसे में 1967 में जब जसवंतनगर विधानसभा के लिए सोशलिस्ट पार्टी के उम्मीदवार का चयन होना था तो सभी को लगा कि सोशलिस्ट पार्टी अपने ही मौजूदा विधायक नाथू सिंह को टिकट देगी, लेकिन ठाकुर छत्रपाल सिंह ने मुलायम सिंह पर भरोसा जताया. जो उस समय अखाड़े में कुश्ती कर रहे थे। और अन्य दो नेताओं को राजी करने के बाद उन्होंने जसवंतनगर से मुलायम सिंह यादव को राजनीति के क्षेत्र में लाने में अहम भूमिका निभाई.

परिवारवाद के खिलाफ थे पूर्व विधायक

कर्णेश सिंह के अनुसार, उस समय के नेता सिद्धांतों पर दृढ़ थे। उस समय वास्तविक समाजवाद था जिसमें परिवार के बारे में नहीं बल्कि समाज के बारे में सोचा जाता था। जहां आज एक विधायक जब बड़े कद का हो जाता है तो अपने दामाद के लिए टिकट मांगने लगता है, लेकिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बड़े समाजवादी नेता होते हुए भी ठाकुर छत्रपाल सिंह ने अपने बच्चों को हमेशा राजनीति से दूर रखा.

वर्ष 2016 में हो गया था निधन

ठाकुर छत्रपाल सिंह का 2016 में निधन हो गया। उनके तीन बेटे हैं। बड़े पुत्र ठाकुर कृष्ण प्रताप, जो अब 72 वर्ष के हैं, फिर ठाकुर किशोर सिंह जो अब 67 वर्ष के हैं और सबसे छोटे ठाकुर कर्णेश सिंह जो 63 वर्ष के हैं, इन तीनों ने न केवल पिता की आज्ञा का पालन किया बल्कि खेती भी की। उनके व्यवसाय के रूप में। बना और आज भी घर खेती से चल रहा है।

योगी और मोदी से खुश हैं कर्णेश

ठाकुर कर्णेश सिंह का कहना है कि सीट आरक्षित होने के बाद जब पिता सिद्धांतों के सामने दूसरी सीट पर नहीं गए तो उनके द्वारा बनाए गए सिद्धांतों से समझौता करने का सवाल ही नहीं उठता। इस समय उत्तर प्रदेश में चुनावी माहौल पर ठाकुर कर्णेश सिंह कहते हैं कि ‘देश के लिए मोदी और यूपी के लिए योगी जरूरी है. पिता समाजवादी थे, लेकिन समाजवाद को सालों पहले समाजवाद ने खत्म कर दिया था, अब समाजवाद नहीं बल्कि परिवारवाद है।

‘2017 के बाद सुधरी है कानून व्यवस्था’

जेवर के पहले विधायक ठाकुर छत्रपाल सिंह के पुत्र ठाकुर कर्णेश सिंह के मुताबिक 2017 के बाद यूपी में कानून व्यवस्था में काफी सुधार हुआ है. दूसरी ओर जेवर में एयरपोर्ट बनने से युवाओं में काफी उत्साह है. यहां विदेशों में रोजगार और शिक्षा के लिए दर दर भटकना नहीं पड़ेगा, इसलिए इस बार 2022 में मुख्यमंत्री पद के लिए उनकी पसंद मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं।

ठाकुर छत्रपाल सिंह के पहुंच का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वर्ष 2020 में गौतमबुद्धनगर में फिल्म सिटी बनाने का फैसला किया तो मुंबई के फिल्म निर्माता मुकेश मासूम ने इस फिल्म सिटी का नाम जेवर के रखा। पहले विधायक ठाकुर छत्रपाल सिंह का नाम लेने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा।

Facebook Comments Box