देश की इकलौती ट्रेन जिसमें कर सकते हैं फ्री में सफर, जानें कहां से कहां तक चलती है

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे: भारतीय रेलवे दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। रॉयल से यहां के लिए पैसेंजर ट्रेनें हैं। उनका किराया ट्रेनों की सुविधा के अनुसार है। आप सोचते होंगे कि हर ट्रेन में सफर करने के लिए कुछ न कुछ किराया देना पड़ता है। लेकिन ऐसा नहीं है। देश में एक ऐसी ट्रेन है जिसमें यात्रा करने के लिए कोई किराया नहीं लिया जाता है। इसमें आप कानूनी रूप से मुफ्त में यात्रा कर सकते हैं। आइए इस स्पेशल ट्रेन के बारे में विस्तार से बताते हैं।

हिमाचल प्रदेश और पंजाब के बॉर्डर पर चलती है ट्रेन

यह स्पेशल ट्रेन हिमाचल प्रदेश और पंजाब के बॉर्डर पर चलती है। अगर आप भाखड़ा नागल बांध देखने जाते हैं तो आप इस ट्रेन यात्रा का मुफ्त में आनंद ले सकते हैं। आपको बता दें कि यह ट्रेन नागल से भाखड़ा बांध तक चलती है। इस ट्रेन से 25 गांवों के लोग पिछले 73 साल से मुफ्त में सफर कर रहे हैं। आप सोच रहे होंगे कि जहां एक तरफ देश की सभी ट्रेनों के टिकट के दाम बढ़ाए जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ लोग इस ट्रेन में फ्री में सफर क्यों करते हैं और रेलवे इसकी इजाजत कैसे देता है?

भाखड़ा बांध की जानकारी देने दौड़ी ट्रेन*

यह ट्रेन भगड़ा बांध की जानकारी देने के उद्देश्य से चलाई जाती है। ताकि देश की आने वाली पीढ़ी को पता चल सके कि देश का सबसे बड़ा भाखड़ा बांध कैसे बना। उन्हें पता होना चाहिए कि इस बांध को बनाने में किन मुश्किलों का सामना करना पड़ा। भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड (बीबीएमबी) इस ट्रेन का संचालन करता है। शुरुआत में इस रेलवे ट्रैक को बनाने के लिए पहाड़ों को काटकर एक दुर्गम रास्ता बनाया गया था, ताकि निर्माण सामग्री यहां तक ​​पहुंच सके.

इसे भी पढ़ें..  Railway Budget : राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस की जगह लेंगी ये नई ट्रेनें, वंदे भारत को लेकर भी है खुश करने वाला अपडेट

25 गांवों के लोग रोजाना करते हैं सफर

यह ट्रेन पिछले 73 साल से चल रही है। इसे पहली बार साल 1949 में चलाया गया था। इस ट्रेन से रोजाना 25 गांवों के 300 लोग सफर करते हैं। इस ट्रेन से सबसे ज्यादा फायदा छात्रों को हुआ है। ट्रेन नंगल से बांध तक चलती है और दिन में दो बार यात्रा करती है। ट्रेन की खास बात यह है कि इसके सभी डिब्बे लकड़ी के बने हैं। इसमें न तो हॉकर और न ही आपको टीटीई मिलेगा।

सभी कोच लकड़ी के बने हैं

यह ट्रेन डीजल इंजन से चलती है। इस ट्रेन में एक दिन में 50 लीटर डीजल की खपत होती है। एक बार इसका इंजन चालू हो जाने पर भाखड़ा से वापस आने के बाद ही बंद हो जाता है। इसके अंदर बैठने के लिए लकड़ी की बेंच भी हैं। इस ट्रेन से भाखड़ा, बरमाला, ओलिंडा, नेहला, भाखड़ा, हंडोला, स्वामीपुर, खेड़ा बाग, कलाकुंड, नंगल, सालंगड़ी, लिडकोट, जगतखाना, परोइया, चुगाठी, तलवार, गोलथाई के आसपास के गांवों के लोगों को यहां आने का रास्ता मिल जाता है. . साधन मात्र है।

इसे भी पढ़ें..  Budget 2023 Expectations : खुशी से झूम उठेंगे सरकारी कर्मचारी! बजट में 8वें वेतन आयोग लाने पर हो सकती है घोषणा
चेन टॉप के लेटेस्ट डिज़ाइन को आप भी जरूर करे ट्राई माघ पूर्णिमा पर भूलवश भी न करें 5 काम CBSE Board परीक्षा का एडमिट कार्ड कैसे मिलेगा काम आएगी ये जानकारी ShahRukh Khan की इस आदत से परेशान हो गई थीं Gauri Khan बेस्ट गोल्ड नथ की ये डिज़ाइन है बेहद खूबसूरत
चेन टॉप के लेटेस्ट डिज़ाइन को आप भी जरूर करे ट्राई माघ पूर्णिमा पर भूलवश भी न करें 5 काम CBSE Board परीक्षा का एडमिट कार्ड कैसे मिलेगा काम आएगी ये जानकारी ShahRukh Khan की इस आदत से परेशान हो गई थीं Gauri Khan बेस्ट गोल्ड नथ की ये डिज़ाइन है बेहद खूबसूरत