#SaveBangladeshiHindus बांग्लादेश में लगातार घट रहा है हिंदुओं का संख्या,ट्विटर पर लगातार ट्रेंड हो रहा है

Copy

बांग्लादेशी हिंदुओं पर हो रहे जिहादी आक्रमण के विरोध में भारत और बांग्लादेश के विविध हिंदुत्वनिष्ठ संगठनों ने आंदोलन किया। इसमें जिहादी आक्रमणकारियों पर कठोर कार्रवाई की मांग की गई। इस मांग के लिए बांग्लादेश के अलावा नई दिल्ली, महाराष्ट्र, कर्नाटक, गोवा, हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्‍चिम बंगाल, मेघालय, असम, त्रिपुरा, ओडिशा राज्य के हिंदुओं ने भाग लिया।

इस आंदोलन में 25 स्थानों पर प्रत्यक्ष तथा 112 स्थानों से ऑनलाइन पद्धति से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस. जयशंकर को ज्ञापन भेजा गया। इसमें हिंदू जनजागृति समिति सहित देशभर के 37 से अधिक हिंदुत्वनिष्ठ संगठन व हिंदू धर्माभिमानियों भाग लिया। हिंदू जनजागृति समिति के पूर्व एवं पूर्वोत्तर राज्य संगठक शंभू गवारे ने बताया कि जिहादियों द्वारा बांग्लादेशी हिंदुओं पर हुए आक्रमण का ट्वीटर पर भी व्यापक विरोध हो रहा है। इस समय भारत और बांग्लादेश के हिंदुओं ने स्वयंस्फूर्ति से भाग लिया। इस समय #SaveBangladeshiHindus हैशटैग द्वारा हजारों हिंदुओं ने ट्वीट किया।

Bangladesh

1971 में थे 29 प्रतिशत हिंदू, अब आठ प्रतिशत-

हिंदू जनजागृति समिति द्वारा ‘बांग्लादेशी हिंदुओं पर जिहादी आक्रमण!’ विषयक ऑनलाइन विशेष संवाद में त्रिपुरा व मेघालय के पूर्व राज्यपाल तथागत राय ने कहा है कि बांग्लादेशी हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों के विरोध में जागतिक स्तर पर निरंतर आवाज उठाना आवश्यक है। राय ने कहा कि जो भूभाग अब बांग्लादेश के रूप में पहचाना जाता है, वहां हिंदुओं की जनसंख्या 1941 में 29 प्रतिशत से घटकर 1951 में 22 प्रतिशत हो गई। 1971 में बांग्लादेश बनने तक हिंदुओं की जनसंख्या 18 प्रतिशत तक घट गई। अब यहां केवल आठ प्रतिशत हिंदू रह गए हैं।

Facebook Comments Box