Advertisement
Categories: मनोरंजन

Sushant Singh Rajput Case: CBI ने दी सफाई, ‘हमारी जांच अभी जारी है’ | bollywood – News in Hindi

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले की जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो, ईडी और एनसीबी कर रही है.

मुंबई. सुशांत स‍िंह राजपूत (Sushant Singh Rajput death case) की मौत को 5 महीने बीत चुके हैं. 14 जून को सुशांत अपने बांद्रा स्‍थ‍ित घर में मृत पाए गए थे. पहले आत्‍महत्‍या और बाद में इस मामले में मर्डर की बात की जाने लगी थी. इस मामले की जांच की कमान सीबीआई को सौंपी गई है. ऐसे में खबरें सामने आई थीं क‍ि सेंट्रल ब्‍यूरो ऑफ इवेस्टिगेशन (CBI) जल्‍द ही इस पूरे मामले की जांच खत्‍म कर अपनी क्‍लोजर र‍िपोर्ट पेश कर सकती है. साथ ही र‍िपोर्ट्स के अनुसार सीबीआई ने सुशांत की मौत में क‍िसी भी तरह की गड़बड़ी से इंकार क‍िया है. लेकिन अब सीबीआई ने अपनी जांच खत्‍म न होने की बात की है.

सीबीआई ने कहा, ‘सेंट्रल ब्‍यूरो ऑफ इवेस्टिगेशन (CBI) सुशांत स‍िंह राजपूत के मौत के मामले की जांच अभी कर रही है. मीडिया में कुछ ऐसी खबरों के कयास थे क‍ि सीबीआई की जांच पूरी हो चुकी है और वह न‍िष्‍कर्ष पर पहुंच गई है. हम साफ कर दें कि ऐसी र‍िपोर्ट गलत हैं.



बता दें कि जी न्‍यूज ने सूत्रों के हवाले से खबर दी क‍ि इस मामले की जांच कर रही स्‍पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (SIT) ने अपनी जांच पूरी कर ली है और वह कुछ ही द‍िनों में ब‍िहार कोर्ट में अपनी फाइनल र‍िपोर्ट पेश करने वाली है. टाइम्‍स ऑफ इंडिया की इस र‍िपोर्ट में सूत्र के हवाले से ल‍िखा गया है, ‘सीबीआई को इस मामले में क‍िसी भी तरह की गड़बड़ी का संदेह नहीं है, वह अपनी क्‍लोजर र‍िपोर्ट ब‍िहार कोर्ट के सामने जल्‍द ही पेश करेगी.’

कुछ दिनों पहले ही ऑल इंडिया मेडिकल साइंसेस (AIIMS) के फोरंसिक मेडिकल बोर्ड ने सुशांत की ऑटोस्‍पी र‍िपोर्ट भी इंवेस्टिगेशन एजेंसी को सौंपी थी, जिसमें भी सुशांत की मौत में मर्डर की थ्‍योरी को पूरी तरह नकारा गया था.

सुशांत की मौत के मामले में उनकी गर्लफ्रेंड और ल‍िव-इन पार्टनर र‍िया चक्रवर्ती को एनसीबी ने ह‍िरासत में ल‍िया था और रिया को हाल ही में बोम्‍बे हाईकोर्ट से जमानत म‍िली है. र‍िया और उनके परिवार पर बिहार पुलिस में सुशांत के प‍िता द्वारा मामला दर्ज कराया गया था, जिसमें र‍िया पर सुशांत को आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने की बात कही गई थी.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.