मौत से पहले दिखने लगते हैं ऐसे संकेत, बस इतनी देर की बचती हैं सांसें

मौत एक सच्चाई है जिसे कभी नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। जिसने धरती पर जन्म लिया है, उसे एक दिन यहां से जाना ही होगा। वैसे तो मृत्यु पर कोई जोर नहीं है। इसकी भविष्यवाणी कोई नहीं कर सकता। लेकिन प्रकृति इंसान को कुछ ऐसे संकेत देती है जिससे उसे अपने अंत का एहसास होता है।

Such signs start appearing before death
बस इतनी देर की बचती हैं सांसें

पुराणों के अनुसार यदि मृत्यु के समय मन शांत और कामनाओं से मुक्त हो तो आत्मा बिना किसी कठिनाई के शरीर त्याग देती है और ऐसे व्यक्ति की आत्मा परवर्ती जीवन में सुख का अनुभव करती है।लोग हमेशा यह जानने के लिए उत्सुक रहते हैं कि मृत्यु के समय या मृत्यु से पहले व्यक्ति कैसा महसूस करता है। हिंदू धर्म के कई ग्रंथों में इसका विस्तार से वर्णन किया गया है। शिव महापुराण में मृत्यु से पहले के संकेतों का उल्लेख है। आइए जानते हैं क्या हैं वो संकेत। तो ऐसे कौन से संकेत हैं जो बताते हैं कि मौत आपके करीब है, आइए जानते हैं।

  • जब मृत्यु का समय नजदीक आता है तो व्यक्ति की आंखों की रोशनी धीरे-धीरे कम होने लगती है।आध्यात्मिक दृष्टि से व्यक्ति को मरने से पहले आकाश में दरार दिखाई देती है। यह नकारात्मकता का प्रतीक है
  • व्यक्ति का अंत समय आता है तो उसे अपने आसपास मृत रिश्तेदारों की मौजूदगी का अहसास होता है। मृत्यु के करीब पहुंचता है, तो वह अपनी नाक को देखने में असमर्थ हो जाता है। क्योंकि उसकी गर्दन अकड़ने लगती है। वह झुक नहीं सकता।
  • कहा जाता है कि किसी व्यक्ति के अपनी अंतिम सांस लेने से कुछ देर पहले ही उसकी आंखें ऊपर की ओर मुड़ने लगती हैं
  • व्यक्ति को चंद्रमा और सूर्य का प्रकाश दिखाई नहीं देता और उसे हर समय अग्नि का भ्रम रहता है, तो वह समझता है कि उस व्यक्ति का अंत निकट है। ऐसे समय में व्यक्ति को आकाश का रंग लाल दिखाई देता है। उसे रंग भ्रम हो जाता है।
  • व्यक्ति की परछाई अंतिम क्षणों तक उसका साथ देती है। उसकी छाया तेल, जल या प्रकाश में दिखाई नहीं देती।
  • शोध के अनुसार मृत्यु से कुछ समय पहले व्यक्ति के शरीर से एक अजीब सी गंध आने लगती है। क्योंकि मौत के 6 महीने पहले से ही इंसान की नाक, मुंह और जीभ पत्थर की तरह सख्त होने लगती है।
  • किसी व्यक्ति की मृत्यु होने वाली होती है, तो उसे अपने सभी अच्छे और बुरे काम याद रहते हैं। इस दौरान उन्हें पछतावा भी होता है।
  • पुराणों के अनुसार जो लोग जीवन में अच्छा काम करते हैं। वह जीवन के अंत में एक सुनहरा प्रकाश देखता है।