Loading...
Politics

शास्त्री जी ने ऊर्जा से भर दिया था देश को : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Loading...

भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 115वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उप राष्ट्रपति एम.वेंकैया नायड समेत समूचे देश ने उनके धैर्य और दृढ़निश्चय को याद किया। पीएम मोदी ने कहा कि शास्त्री जी ने ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा देकर देश
को ऊर्जा से भर दिया था।

पीएम मोदी ने बुधवार को ट्वीट करके श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का मैं नमन करता हूं। उन्होंने एक वीडियो पोस्ट करते हुए इस महान नेता के धैर्य व दृढ़ता के साथ ही खादी के प्रति उनके लगाव का जिक्र किया।

मोदी ने दिल्ली स्थित उनके समाधिस्थल विजय घाट जाकर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू, और शास्त्री जी के बेटे अनिल शास्त्री समेत कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी विजयघाट में शास्त्री जी को श्रद्धांजलि दी। उनकी जयंती के अवसर पर लाल बहादुर शास्त्री नेशनल मेमोरियल ट्रस्ट ने भक्ति और देशभक्ति के गीतों का एक कार्यक्रम भी आयोजित किया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी ट्वीट करके पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर -शास्त्री को श्रद्धांजलि दी।

उन्होंने कहा कि शास्त्री जी भारत के महान सपूत थे। उन्होंने बड़ी लगन और प्रतिबद्धता से देश की सेवा की। उनका साहस, सादगी और सत्यनिष्ठता पूरे देश के लिए प्रेरणा है। पाकिस्तान से वर्ष 1965 के युद्ध में भारत को जबरदस्त जीत दिलाने वाले तत्कालीन प्रधानमंत्री शास्त्री जी का जन्म 2 अक्टूबर, 1904 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में हुआ था। वह बहुत कम उम्र में आजादी के आंदोलन के दौरान सत्याग्रह की राह पर चल पड़े थे। बतौर प्रधानमंत्री देश के लिए उनके -प्रमुख योगदानों में श्वेत क्रांति और हरित क्रांति भी है।

श्वेत क्रांति के जरिए उन्होंने भारत का दुग्ध उत्पादन बुलंदियों पर पहुंचा दिया था और कृषि क्रांति लाकर देश के खाद्यान्न संकट को ही खत्म कर दिया था। वह जवाहर लाल नेहरू के निधन के बाद वर्ष 1964 में देश के प्रधानमंत्री बने थे। उनके ही कार्यकाल में वर्ष 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध हुआ था। जिसमें भारतीय सेना ने अपना परचम लाहौर तक फहरा दिया था। 11 जनवरी, 1966 को ताशकंद में उन्होंने अंतिम सांस ली थी।

Loading...

Most Popular

Loading...
Loading...
To Top