PM Modi का दावा, ‘हमने गरीबों को बनाया लखपति और महिलाओं को मालकिन’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए एक बड़ा दावा करते हुए कहा कि ‘गरीबों के लिए घर बनाकर हमने उन्हें लखपति बनाया, महिलाओं को भी मालकिन बनाया’.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार ने पिछले सात साल में तीन करोड़ गरीब लोगों को पक्के मकान देकर लखपति बनाया है.

pm modi
PM Modi

महिलाओं को बनाया ‘मालकिन’

उन्होंने कहा कि इनमें से ज्यादातर घर महिलाओं के नाम हैं इसलिए सरकार ने उन्हें घरों की ‘मालकिन’ बनाया है. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा आयोजित ‘आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि गरीबों का बड़ा सपना खुद का घर होना है।

उन्होंने कहा कि इस साल के बजट में गरीबों के लिए 80 लाख पक्के घर बनाने की बात कही गई है और इस पर 48,000 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे.

पीएम मोदी ने कहा, ‘गरीबों को जब घर मिलता है, तो उनका हौसला और बढ़ जाता है. हम गरीबों की ताकत को कभी नहीं जानते थे। कई ऐसे थे जिन्होंने गरीबों का राजनीतिक इस्तेमाल किया।

West Bengal Election 2021 Prime Narendra Modi Virual Rally Ahead Of Seventh  Phase Of Voting | वर्चुअल रैली कर बोले पीएम मोदी- कोरोना के चलते नहीं जा  पाया बंगाल, BJP की डबल
narendra modi

गरीबों की जिंदगी बदलने का दावा

प्रधानमंत्री ने ‘जन-धन’ खातों का उदाहरण देते हुए कहा कि अगर ‘जन-धन’ खाते से किसी गरीब की जिंदगी बदल सकती है, तो घर मिलने के बाद उसकी जिंदगी में कितना बदलाव आता है, इसका अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है.

उन्होंने कहा, ‘जब सरकार घर बनाती है तो वह घर इन गरीबों को एक तरह से करोड़पति बना देता है। जब मैं छोटा था तो लखपति शब्द बहुत बड़ा लगता था। लखपति यानि दुनिया कितनी बड़ी है।

झुग्गीवासियों की बदली जिंदगी

पीएम ने कहा कि जो गरीब थे और जो झुग्गी-झोपड़ियों में रहते थे, आज उनके पास अपना घर है और यह घर भी पहले से आकार में बड़ा है ताकि बच्चों की पढ़ाई के लिए जगह हो.
उन्होंने कहा, ‘बड़ी बात यह है कि इनमें से ज्यादातर घर भी महिलाओं के नाम हैं। यानी हमने महिलाओं को घर की मालकिन भी बनाया है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार हमेशा सामाजिक न्याय के लिए काम करती है और इसे अपनी जिम्मेदारी मानती है. उन्होंने कहा, ‘जिस तरह समाज की बेहतरी के लिए सामाजिक न्याय बहुत जरूरी है, उसी तरह देश की बेहतरी के लिए संदेश का संतुलित विकास भी जरूरी है।’