Panchak 2022 : शुरू होने वाले हैं ‘अग्नि पंचक’, भूलकर भी न करें ये काम, जीवन भर का होगा नुकसान!

ज्योतिष शास्त्र में पंचक को अशुभ नक्षत्र माना जाता है। पंचक में पंचांग के अनुसार हर महीने में कुल 5 दिन ऐसे होते हैं जो दूषित माने जाते हैं। मान्यता है कि पंचक में किए गए कार्यों का दुष्प्रभाव पांच गुना बढ़ जाता है। मांगलिक कार्य करना वर्जित माना गया है। जीवन में कई तरह के संकट आ सकते हैं। अभी नवंबर का महीना चल रहा है। इस महीने के अंत में अग्नि पंचक लग रहा है इसलिए अगर आप कोई शुभ काम करना चाहते हैं तो इससे पहले कर लें।

Panchak 2022
शुरू होने वाले हैं ‘अग्नि पंचक’, भूलकर भी न करें ये काम

इन 5 दिनों में बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है। जब चंद्रमा कुम्भ और मीन राशि में गोचर करता है, तब चक्र को पंचक कहते हैं। शास्त्रों के अनुसार मंगलवार से शुरू होने वाला पंचक अग्नि पंचक कहलाता है। दरअसल नक्षत्र चक्र में कुल 27 नक्षत्र होते हैं, जिनमें से अंतिम पांच नक्षत्र धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तर भाद्रपद और रेवती दूषित माने गए हैं। आइए जानते हैं कब से लग रहा है अग्नि पंचक, इसमें कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए

कब शुरू हो रहा है अग्नि पंचक?

पंचांग के अनुसार अग्नि पंचक 29 नवंबर 2022, मंगलवार को शाम 07:51 बजे से शुरू हो रहा है। अगले पांचवें दिन यानी 4 दिसंबर 2022 रविवार को शाम 06:16 बजे समाप्त होगी।

इन पांच दिनों में भूलकर भी कोई शुभ कार्य न करें।

  • इसमें औजार, मशीनरी और निर्माण संबंधी सामान न खरीदें। इनसे नुकसान हो सकता है। न ही इससे संबंधित कार्य प्रारंभ करें।
  • पंचक के दौरान दक्षिण दिशा में यात्रा करने से बचें। कहा जाता है कि इसे यमराज की दिशा माना जाता है।
  • क्रोध न करें इससे आपका नुकसान हो सकता है। वाणी पर संयम रखें।
  • माना जाता है कि अग्नि पंचक में मंगल से जुड़ी चीजों का इस्तेमाल बहुत ही सोच समझकर करना चाहिए
  • खाट, बिस्तर खरीदना, घर की छत बनाना या घर का निर्माण शुरू करना बहुत ही अशुभ साबित होगा।