Personality

#GarimaYadav कभी सिर पर सजा था ब्यूटी क्वीन का ताज,अब बन गई है सेना में अफसर,नाम जान हो जाएंगे हैरान,देखिए.

Advertisement

आजके के इस दौर में हर कोई अपना कैरियर मॉडलिंग और एक्टिंग को ही देना चाहता है। बहुत से ऐसे लोग हैं जो चाहते हैं, कि वह एक एक्टर/एक्ट्रेस या फिर मॉडलिंग में अपना कैरियर बनाएं।
मॉडलिंग और एक्टिंग में महिलाओं का इंटरेस्ट ज्यादा होता है,और इसी कारण महिलाएं ब्यूटी कॉन्टेस्ट में भाग भी लेती हैं. आपको लगता होगा कि ब्यूटी कांटेक्ट जीतने के बाद महिलाएं मॉडलिंग और एक्टिंग को ही कैरियर के तौर पर चुनती हैं.

तो आइए आज आपको बताते हैं, लेफ्टिनेंट गरिमा यादव के बारे में जो की अपने फैसले के बाद लोगों की सोच बदल कर रख दी है. चलिए तो आपको बताते हैं कौन है गरिमा यादव और क्या है पूरी कहानी?

यह भी पढ़ें-  Fresh green vegetables will produced at Ladakh defence post | सेना के जवान खाएंगे इस लैब की सब्जी, पोषण का रखा गया है पूरा ध्यान

गरिमा, दिल्ली विश्वविद्यालय के सेट स्टीफन कॉलेज से ग्रेजुएट हैं और हरियाणा के रेवाड़ी के गांव सुरेहली की रहने वाली हैं गरिमा ने ‘इंडियाज मिस चार्मिंग फेस 2017’ का खिताब जीता था और मुंबई में आयोजित इस प्रतियोगिता में गरिमा ने अलग-अलग राज्यों के 20 प्रतिभागियों को पीछे छोड़ा था इसके बाद उन्होंने मॉडलिंग और एक्टिंग की दुनिया का रुख नहीं किया, बल्कि अपने सपने पर काम किया। गरिमा का सपना था कि वह अपने देश के लिए कुछ करें और गरिमा ने अपने सपने को पूरा किया।

You May like : बड़े भाई की मौत ने बदल दी झारखंड के होने वाले CM हेमंत सोरेन की जिंदगी, पत्नी करती हैं ये काम

गरिमा ने पहली बार में सीडीएस कंबाइंड डिफेंस सर्विस का एक्जाम पास किया और चेन्नई में ओटीए ऑफिसर ट्रेनिंग अकैडमी में अपनी जगह बनाई।गरिमा को भारतीय सेना में अफसर बनने से पहले उन्हें ‘ब्यूटी कॉन्टेस्ट’ के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अगले चरण में भाग लेने का बुलावा आया था, जो इटली में था, लेकिन ओटीए में जगह मिलते ही उन्होंने इस प्रतियोगिता के बजाय अपने देश की सेवा करने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें-  ISI and china training terrorists to carry out terror attack in Jammu and Kashmir | जम्मू-कश्मीर और PoK में ISI के साथ चीन रच रहा नई आतंकी साजिश

जब गरिमा से उनके इस फैसले के बारे में पूछा गया तब गरिमा ने बहुत ही साफ शब्दों में कहा कि “लोगों को ने गलत धारणाएं बना रखी है कि अगर आप खेल-कूद में अच्छे हैं और शारीरिक तौर पर मौजूद हैं, तभी आप एसएसबी के लिए चुने जा सकते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है, क्योंकि आपको बस जरूरत है अपनी कमजोरियों को पहचान कर उन पर काम करने की इसके बाद जिंदगी आपको कई बेहतर पल देती है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग न्यूज़

To Top