भारत पहुंचा ओमिक्रॉन, एक्सपर्ट से जानें कैसे करे बचाव : वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके लोगों के लिए भी खतरनाक है नया वैरिएंट

कॉरोना वायरस ने पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया था। अब बहुत समय बाद लोग धीरे धीरे नॉर्मल जिंदगी जीने की कोशिश कर रहे हैं।पर इसी बीच कोरॉना का नया वरिएंट ओमिक्रॉन्न तेजी से अपने पैर पसार रहा है। आपको बता दें कि अब ओमिक्रॉन्न भारत भी पहुंच गया है, बेंगलुरु के दो लोगों में यह केस पाया गया है।भारत 29 वा देश है जहां ओमिक्रॉन्न पहुंच चुका है। हेल्थ मिनिस्ट्री के जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने इसके तेजी से फैलने की आशंका जताई है ऐसे में लोगों को काफी चिंता हो रही है।

वैक्सीन की दोनों डोज के बावजूद घातक है ओमिक्रॉन - पत्रिका ब्यूरो
omicron

बताया जा रहा है कि वैरिएंट में 30 से ज्यादा स्पाइक्स का म्युटेशन पाया गया है, जो लंग्स को बहुत तेजी से डैमेज कर सकता है। आपको बता दें जब भी कोई नया वारिएंट आता है तो उसे वेरिएंट ऑफ इंट्रेस्ट की श्रेणी में रखा जाता है। पर बढ़ते खतरे को भांपते हुए who ने इसे वेरिएंट ऑफ कंसर्न घोषित कर दिया । अब यह वेरिएंट क्या रूप लेता है ये तो रिसर्च के बाद ही पता लगेगा ।

अभी तक इतना पता लगा है कि ये नए वैरिएंट में 30 से ज्यादा स्पाइक्स का म्यूटेशन मिला है। यही स्पाइक्स शरीर में लंग्स की झिल्ली पर जाकर चिपक जाते है और उसे तेजी से डैमेज करना शुरू कर देते हैं। इसी कारण निमोनिया और दूसरे कॉम्प्लीकेशन पैदा करते हैं।
यह लंग्स को डेल्टा वैरिएंट से कई गुना ज्यादा तेजी से डैमेज कर सकता है।

डबल इम्यूनिटी के बाद भी यह वेरिएंट लोगों को एफेक्ट कर सकता है । ऐसे में लोगों को बहुत सावधानी बरतने की हिदायत दी जा रही है । उन्हे मास्क लगाके रखने की सलाह के साथ साथ भीर भाड़ वाली जगहों से दूर रहने की हिदायत दी जा रही है । बाहर से आए लोगों को क्वारेंटाइन करने की भी जरूरत है। पॉजिटिव पाए जाने पर जीनोम सीक्वेंसिंग के जरिए ही यह पता लग पाएगा कि व्यक्ति कौनसी वेरिएंट की वजह से संक्रमित है।इससे पहले कारोना की लहर में rt pcr 70 फीसदी तक कारगर साबित हुई थी।

Facebook Comments Box