Crime

अब कोई नहीं बचा सकता निर्भया के दोषियों को,जल्लाद फांसी देने को तैयार

जितने भी कानूनी दांवपेच खेलने थे इन दोषियों ने खेल लिए अब ज्यादा दिन तक यह लोग फांसी से नहीं बच सकते हैं, क्योंकि जिस तरह सरकार ने कानून की खामियों को दूर करने की कोशिश शुरू कर दी है और सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करके जेल मैनुअल की प्रक्रिया को दूर करने की अपील की है।

जहां आपको बता दें कि गृह मंत्रालय से अपील करके यह कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट ऐसी व्यवस्था बनाए ताकि एक बार डेथ वारंट जारी होने के बाद 7 दिनों के अंदर या तो अपराधी को फांसी पर लटका दिया जाए या तो फिर मर्सी पिटिशन के जरिए उसकी मौत की सजा को माफ की जाए। किसी भी तरह से मामले को लटकाया ना जाए और किसी भी तरह की देरी ना हो।

सरकार का यह भी कहना है कि जेल मैनुअल की कमी की वजह से निर्भया के कातिलों को फांसी के फंदे पर लटकाने में देरी हो रही है। आपको जानकारी दे दे कि एक अपराधी मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति ने खारिज कर दी है, जबकि पवन की तरफ से क्यूरेटिव पिटीशन लगाई गई, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत खारिज कर दिया था।

हालांकि चारों अपराधियों को 1 फरवरी को सुबह 6:00 बजे फांसी पर लटकाने का लिए डेथ वारंट जारी हो चुका है, लेकिन फिर बच गए तीन अपराधियों में किसी की तरफ से दया याचिका लगाई जा सकती है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top