नसरुद्दीन करना चाहते थे हिंदू लड़की रत्ना पाठक से शादी,तब माँ ने पुछा था- क्या वो धर्म परिवर्तन कबूल करेगी ?

नसरुद्दीन शाह बॉलीवुड के जाने-माने अभिनेता है. कई बड़ी फिल्मों में नसरुद्दीन शाह ने काम किया है और नसरुद्दीन शाह के कई फैन है जो अक्सर सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीरें शेयर करते रहते है.

अपने प्रोफेशनल लाइफ से ज्यादा नासूरउद्दीन शाह अपने पर्सनल लाइफ के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने अपनी निजी जिंदगी में दो शादियां किया है. आज भी उन्हें सबसे ज्यादा लगाव अपनी पत्नी रत्ना पाठक से है. रत्ना पाठक से शादी के दौरान उन्हें कई सारी परेशानियों का सामना करना पड़ा था क्योंकि उन दोनों का धर्म अलग था. नसीरुद्दीन मुस्लिम थे तो वहीँ रत्ना मुस्लिम थी. शादी से पहले उनकी मां ने रत्ना पाठक से शादी के लिए कभी न तो नहीं कही थीं, लेकिन उन्होंने नसीर से पूछा था कि वह क्या रत्ना धर्म परिवर्तन करेगी? तब नसीर ने जानिए क्या जवाब दिया था, आइए हम आपको बताते हैं नसरुद्दीन शाह के कुछ अनकहे किस्सों के बारे में.

नसीर, की आत्मकथा में लिखित अनुसार वह रत्ना पाठक से शादी करने से पहले तलकाशुदा और एक बेटी हीबा के पिता थे. नसीर ने अपनी आत्मकथा में बताया है कि उनकी पहली पत्नी परवीन मुराद के साथ अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में पढ़ने के दौरान उनका अफेयर शुरू हुआ था. परवीन पाकिस्तानी थीं और स्टूडेंट विजा पर इंडिया आई थीं और जब उनका स्टूडेंट वीजा खत्म होने लगा तो उनको भारत छोड़ने की नोटिस मिल गई.नसीर बताते हैं कि परवीन भारत छोड़कर नहीं जाना चाहती थीं और वह परवीन को खुद से दूर नहीं करना चाहते थे और भारत में रोकने का एक ही रास्ता था, उनसे शादी करना नसीर ने बताया था कि अपनी मोहब्बत को भारत में रोकने के लिए उनसे शादी करने का फ़ैसला कर लिया था, लेकिन बाद में ये शादी चल नहीं सकी और हम दोनो अलग हो गए इस शादी से इन दोनो की एक बेटी है हिबा.

इसके बाद नसीरुद्दीन और रत्ना की मुलाकात सत्यदेव दुबे के प्ले ‘संभोग से संन्यास तक’ के दौरान हुई. इस प्ले के रिहर्सल के दौरान दोनों पहली बार मिले. रत्ना ने मुलाकात के बारे में खुद इंटरव्यू के दौरान बताया था. उन्होंने कहा था, ‘सत्यमेव दुबे ने हमें मिलवाया था और उस वक्त हमारे मन में एक-दूसरे के लुए कुछ नहीं था. मैं तो इनका सही से नाम भी नहीं जानती थी. पहले दिन सिर्फ मीटिंग हुई. दूसरे दिन हम दोस्त बने और फिर साथ घूमना शुरू कर दिया.’

नसीरुद्दीन जब रत्ना पाठक शाह से शादी करने वाले थे तब उनकी मां ने उनसे पूछा था कि क्या तुम अपनी होने वाली पत्नी का धर्म बदलोगे? तब नसीरुद्दीन ने उन्हें सीधा मना कर दिया था. उन्होंने अपनी अम्मी से साफ कहा था कि वह रत्ना को इस्लाम क़ुबूल करने को बिल्कुल नहीं बोलेंगे. उनके जवाब से उनकी मां काफी देर तक सिर हिलाती रहीं और बाद में उन्होंने खुलकर तो नहीं लेकिन मौन सहमति की दे दी थी.

नसरुद्दीन शाह ने बताया कि हमने अपने बच्चों को हर धर्म के बारे में ज्ञान दिया है और हम नहीं चाहते हैं कि हमारे बच्चे रूढ़िवादी सोच के बने. उन्होंने बताया कि मैं अपनी पत्नी रत्ना के साथ काफी ज्यादा खुश हूं और मुझे गर्व है कि रखना मेरी पत्नी है.

Facebook Comments Box