Politics

मनमोहन का बड़ा खुलासा: रोके जा सकते थे 1984 के सिख दंगे, नरसिम्हा राव ने नहीं मानी गुजराल की बात

Advertisement

31 अक्टूबर 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या 26 बॉडीगार्ड ने की थी. यह बॉडीगार्ड उनकी ही सुरक्षा के लिए रखे गए थे. इसके साथ ही पूरी दिल्ली समेत भारत के कई हिस्सों में सिख विरोधी दंगे भड़क गए. दिल्ली में सबसे भयानक दृश्य देखने को मिले. जिसमें 3000 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई. उस समय के दृश्य बहुत ही भयानक थे. शेख अपने-अपने घर छोड़कर भाग रहे थे .और अन्य धर्म के लोगों के पास जाकर शरण ले रहे थे. कई बेकसूर सिखों की हत्या कर दी गई.

सिखों पर हुए दंगे का कांग्रेस पर हमेशा आरोप लगता रहा है. अब इस दंगों को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बड़ा बयान दिया. मनमोहन सिंह ने कहा कि अगर उस वक्त गृह मंत्री रहे. पी वी नरसिम्हा राव ने इंद्र कुमार गुजराल की सलाह मान ली होती. तो इतना बड़ा दंगा नहीं भड़कता. और कई लोगों की जान बच जाती.

You May Like : पहली बार अंजना ओम कश्यप को लाइव टीवी पर जमकर धोया ,वायरल हुआ वीडियो

इंद्र कुमार गुजराल की सभी जयंती पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोहन सिंह जी ने यह सब कहा,” गुजराल ने नरसिंह राव को जल्द से जल्द सीना बुलाने की सलाह दी इंद्र कुमार गुजराल उस वक्त किसी पद पर नहीं थे लेकिन उन्होंने एक विशिष्ट राजनेता की हैसियत से नरसिम्हा राव को सलाह दी थी”.

आगे मनमोहन सिंह ने बताया अगर इंद्र कुमार गुजराल की सलाह नरसिम्हा राव ने मान ली होती तो, अनेक निर्दोष लोगों की जान बच गई होती. खेल मनमोहन सिंह के बयान के द्वारा यह समझा जा सकता है .कि वह कांग्रेस को कब रख कर रहे हैं, क्योंकि अदालत ने 1984 के दंगों के केस में 2018 में दिल्ली हाईकोर्ट ने प्रमुख आरोपी के तौर पर कांग्रेस के पूर्व नेता सज्जन कुमार को उम्र कैद की सजा सुनाई है. यह कहा जा सकता है, की मनमोहन सिंह कांग्रेस को बचाने की कोशिश कर रहे हैं.

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग न्यूज़

To Top