महुआ मोइत्रा का BJP पर तंज, बोलीं- गोमूत्र पीकर आएं, संसद में सरकार पर जमकर बरसीं

नई दिल्ली: तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा (TMC MP महुआ मोइत्रा) अपने तीखे भाषण के लिए जानी जाती हैं और उन्होंने गुरुवार को लोकसभा में केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा और कहा कि सरकार इतिहास बदलना चाहती है. लोकसभा में अपने संबोधन से पहले महुआ मोइत्रा ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि गोमूत्र पीकर आना.

महुआ मोइत्रा का ट्वीट

महुआ मोइत्रा ने लोकसभा में अभिभाषण से पहले ट्वीट किया और कहा, ‘मैं आज शाम राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर लोकसभा को संबोधित करूंगा। इसलिए मैं बीजेपी को सलाह देना चाहता हूं कि वे बीच में ही बीच में बीच में ही बीच-बचाव करने वाली टीम तैयार करें और कुछ गोमूत्र पीकर आएं.

tmc mp mahua moitra
mahua moitra

आज शाम लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर बोल रहा हूं।

हेकलर टीम को तैयार करने और व्यवस्था के काल्पनिक बिंदुओं पर पढ़ने के लिए बस @BJP को शुरुआती सिर देना चाहता था। कुछ गौमूत्र शॉट भी पिएं।

भविष्य से डर रही है सरकार : महुआ मोइत्रा

लोकसभा में महुआ मोइत्रा ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह सरकार इतिहास बदलना चाहती है, वर्तमान पर भरोसा नहीं करती और भविष्य से डरती है. तृणमूल कांग्रेस के सदस्य ने कहा कि स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में राष्ट्रपति के अभिभाषण में कही गई बातें सिर्फ जुबानी हैं।

‘महापुरुषों के विचारों पर नहीं चलती सरकार’

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए महुआ मोइत्रा ने कहा कि राष्ट्रपति के अभिभाषण में नेताजी सुभाष चंद्र बोस और अन्य महापुरुषों का उल्लेख सिर्फ कहने के लिए किया गया था और सरकार उनके विचारों का पालन नहीं करती है।

मोइत्रा ने कहा, ‘नेताजी ने कहा था कि सरकार को सभी धर्मों के प्रति तटस्थ रवैया रखना चाहिए और अगर वह होते तो क्या वह अतीत में हरिद्वार धर्म संसद में मुसलमानों के खिलाफ कथित बयानबाजी की अनुमति देते।’

डरती है यह सरकार : महुआ मोइत्रा

महुआ मोइत्रा ने आरोप लगाया कि यह सरकार डरी हुई है, इसलिए सीबीआई अधिकारियों का कार्यकाल विरोधियों को दबाने और नौकरशाहों से डरने के लिए बढ़ाया जा रहा है, इसलिए भारतीय प्रशासनिक सेवा कैडर नियमों में बदलाव ला रही है।

‘अन्नदाता और मतदाताओं पर भरोसा नहीं सरकार’

तृणमूल सांसद ने आरोप लगाया कि सरकार को देश के अन्नदाता पर भरोसा नहीं है और वह उन्हें न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी नहीं दे रही है. उन्होंने कहा कि सरकार को मतदाता पर भरोसा नहीं है, इसलिए मतदाता पहचान पत्र को आधार कार्ड से जोड़ा जा रहा है.

उन्होंने पेगासस स्पाइवेयर का विषय उठाते हुए कहा कि इस मामले में सभी देशों की सरकारों को झूठा बताया जा रहा है, तो क्या यह सरकार ही सच बोल रही है. उन्होंने कहा, ‘अब समय आ गया है कि देश के सभी नागरिकों को गणतंत्र के लिए लड़ना होगा।’