जानिए कौन है डिंपल,जिनसे कारगिल जाने से पहले ‘वादा’ कर गए थे ‘शेरशाह’ कैप्‍टन विक्रम बत्रा

Copy

विक्रम बत्रा एक ऐसा नाम है जो कभी भी नहीं भूला जा सकता. कारगिल युद्ध में शहीद हुए विक्रम बत्रा को आखिर कौन नहीं जानता. कारगिल का वा हीरो आज भी लोगों के दिलों में बसता है.

इस कारगिल हीरो की एक प्रेम कहानी भी है जो लोगों के लिए प्रेरणादायक है. आजकल जहां रिश्ते एक दिन में टूट जाते हैं वहां विक्रम बत्रा की प्रेमिका डिंपल आज भी विक्रम बत्रा के इंतजार में हैं उन्हें आज भी ऐसा लगता है कि विक्रम जरूर आएंगे. विक्रम बत्रा और डिंपल चीमा की यह प्रेम कहानी आपके भी आंखों में आंसू जरूर ला देगी.

विक्रम बत्रा को कौन नहीं जानता वह कारगिल के हीरो है. कारगिल उन्होंने जो वीरता दिखाई वह हर किसी की जुबान पर है. कारगिल के हीरो विक्रम बत्रा इस देश की शान है.विक्रम बत्रा ने कारगिल पर विजय मिलने और अपने साथी सैनिकों को बचाने में अपना जान गवां दिए थे । उनकी शहादत के बाद डिंपल ने कभी शादी नहीं की और उनकी विधवा बनकर जिंदगी जी रही हैं।

कारगिल युद्ध के हीरो कैप्टन विक्रम बत्रा पर आधारित फिल्म ‘शेरशाह’ अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज हो गयी है। फिल्म को काफी पसंद किया जा रहा है। इसमें सिद्धार्थ मल्होत्रा ने विक्रम बत्रा का रोल निभाया है। कियारा आडवाणी उनकी गर्लफ्रेंड डिंपल चीमा के किरदार में नजर आ रही हैं। फिल्म में एक तरफ विक्रम बत्रा के साहस को दिखाया गया है। तो दूसरी तरफ उनकी मोहब्बत को भी बड़ी खूबसूरती से दिखाया गया है। विक्रम बत्रा ने कारगिल पर विजय प्राप्त करने और अपने साथी सैनिकों को बचाने में अपने प्राणों आहुति दे दीए थे । उनकी शहादत के बाद डिंपल ने कभी शादी नहीं की और उनकी विधवा बनकर जिंदगी जी रही हैं।

विक्रम बत्रा और डिंपल चीमा की पहली बार साल 1995 में पंजाब यूनिवर्सिटी में मुलाकात हुई थी। यही से दोनों के बीच मुलाकातों का सिलसिला शुरू हो गया और दोनों को प्यार हो गया । ‘द क्विंट’ को दिए एक इंटरव्यू में डिंपल ने विक्रम बत्रा के साथ बिताए पलों को याद किया था। उन्होंने बताया, ‘मैं विक्रम से पहली बार 1995 में चंडीगढ़ में पंजाब यूनिवर्सिटी में मिली थी। हम दोनों ने एमए अंग्रेजी में एडमिशन लिया था। लेकिन किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था कि हम दोनों ने ही इस कोर्स को पूरा नहीं किया। मुझे लगता है कि ये नियति थी, जो हमें साथ लाने की कोशिश कर रही थी।’ विक्रम और डिंपल दोनों एक-दूसरे से बेहद प्यार करते थे और इस रिश्ते के लिए काफी सीरियस थे।

खून से भरी डिंपल की मांग-
डिंपल ने एक बहुत ही खूबसूरत याद को शेयर करते हुए बताया, ‘हम दोनों अक्सर मंसा देवी मंदिर और गुरुद्वारा श्री नाडा साहिब जाते रहते थे। परिक्रमा करते वक्त वह मेरे पीछे चल रहे थे। उन्होंने मेरे दुपट्टे को पकड़ा हुआ था। परिक्रमा पूरी होने पर उन्होंने मुझे कहा, ‘बधाई हो मिसेज बत्रा। क्या आपको नहीं पता था कि, यह चौथी बार है, जब हम ये परिक्रमा कर रहे हैं?’ हालांकि, डिंपल के घरवाले उनपर शादी का दवाब बना रहे थे। ऐसे में एक दिन उन्होंने विक्रम बत्रा से शादी को लेकर बात की। जिस पर उन्होंने अपने पर्स से ब्लेड निकालकर अपना अंगूठा काट लिया और खून से डिंपल की मांग भर दी। डिंपल ने बताया था कि उनके जीवन का वह सबसे खूबसूरत पल था।

हम फिर से मिलने जा रहे हैं-
दोनों ने फैसला किया था कि कारगिल युद्ध से लौटने के बाद वो शादी कर लेंगे। लेकिन 1999 में राष्ट्र के लिए लड़ते हुए विक्रम बत्रा शहीद हो गए। इसके बाद डिंपल ने कभी शादी नहीं की और विक्रम बत्रा की विधवा बनकर जीने का फैसला किया। इस पर बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘पिछले 17 सालों में एक भी दिन ऐसा नहीं हुआ जब मैंने खुद को उससे अलग महसूस किया हो। ऐसा लगता है कि वह किसी पोस्टिंग पर दूर हैं। मैं अपने दिल में जानती हूं कि हम फिर से मिलने जा रहे हैं, बस समय की बात है।

Facebook Comments Box