कंगना बोली सम्मान कईयों के मुंह बंद कर देगा, पैसे से ज्यादा दुश्मन कमाए, देश को धन्यवाद…

Copy

बकौल कंगना पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर कंगना रनोट ने खुशी जाहिर करते हुए, माता- पिता और गुरू को श्रेय दिया मालूम हो कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कंगना को पद्मश्री से नवाजा। अभिनेत्री ने एक वीडियो शेयर करते हुए उसमें इस सम्मान को मिलने के बाद लोगों को धन्यवाद दिया है।बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनोट ने हाल ही में नेशनल अवॉर्ड जीता है। जिसके बाद अब एक्ट्रेस को पद्मश्री सम्मान से भी सम्मानित किया गया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कंगना को पद्मश्री से नवाजा। इस सम्मान को पाकर कंगना रनोट भी बेहद खुश हैं। कंगना ने अपनी खुशी सोशल मीडिया के माध्यम से जाहिर की है।

पद्मश्री पुरस्कार

कंगना रनोट ने इस वीडियो को शेयर करते हुए अपने माता- पिता और गुरू को इसका श्रेय दिया है। कंगना रनोट इस सम्मान को लेने के लिए दिल्ली पहुंची थीं। जहां उन्होंने पारपरित भारतीय परिधान में इस अवॉर्ड को लिया। इस खास मौके के लिए कंगना ने गोल्डन बेज कलर की सिल्क की साड़ी पहनी हुई थी। इसके साथ उन्होंने कान में झुमके पहने हुए थे। कंगना इस लुक में बेहद खूबसूरत लग रही थीं।

Padma Award 2020: Kangana Ranaut, Adnan Sami conferred with Padma Shri
कंगना रनोट

कंगना रनोट सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं। वो अक्सर कई पोस्ट फैंस के साथ शेयर करती रहती हैं। अब पद्मश्री सम्मान से सम्मानित होने के बाद कंगान ने एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में कंगना रनोट कह रही हैं, ‘दोस्तों एक कलाकार के नाते मुझे बहुत ज्यादा प्यार सम्मान, अकनॉलेजमेंट, पुरस्कार बहुत मिले। लेकिन आज पहली बार लाइफ में मुझे एक नागरिक होने के नाते, एक आदर्श नागरिक होने के नाते पुरस्कार मिला है। पद्मश्री, इस देश से, इस गवर्नमेंट से और मैं बहुत आभारी हूं।’

आगे अपने करियर के बारे में बात करते हुए कंगना कहती हैं, ‘जब मैंने अपना करियर शुरू किया था छोटी उम्र से तब मुझे सफलता नहीं मिली। करीब 8-10 सालों बाद जब मुझे सफलता मिली तो मैंने उस सफलता का मजा ना लेते हुए जिन चीजों पर काम करना शुरू किया, कई तरह के जो फेयरनेस प्रोडक्ट्स हैं उन्हें करने से मना किया, आइटम नंबर का बहिष्का किया, बड़े- बड़े प्रोडक्शन हाउसेस के साथ काम करने से मना किया। बहुत सारे दुष्मन भी बनाए, पैसे से ज्यादा दुष्मन बनाए।’

आगे कंगना कहती हैं, ‘फिर जब और ज्यादा जागरुकता आई देश को लेकर तो देश को तोड़ने वाली शक्तियों चाहे वो जेहादी हों या खालिस्तानी हों या दुश्मन देश हों उनके खिलाफ आवाज उठाई और ना जाने कितने केसेस अभी भी मुझ पर हैं। और अक्सर लोग मुझसे पूछते हैं कि क्या मिलता है ये सब करके, क्यों करती हो? ये तो हमारा काम नहीं है? तो उन लोगों के लिए मुझे जवाब मिला है, ये जो पद्मश्री के रूप में मुझे सम्मान मिला है ये बहुत लोगों का मुंह बंद करेगा मैं दिल से इस देश का धन्यवाद करती हूं, जय हिंद।’

Facebook Comments Box