Sarkari Job

पहली भारतीय निजी ट्रेन तेजस एक्सप्रेस में छटनी, 20 लोगों को नौकरी से निकाला गया.

Advertisement

भारत की पहली निजी ट्रेन तेजस एक्सप्रेस में छटनी की गई. अभी ट्रेन को 2 महीने भी नहीं हुए थे कि 18 से 20 लोगों को नौकरी से निकाल दिया गया. यहां के स्टाफ से बातचीत के दौरान ज्ञात हुआ कि ,बिना नोटिस दिए की नौकरी से निकाला गया है. यह ट्रेन लखनऊ से दिल्ली के बीच चलती है. तेजस एक्सप्रेस में यात्रियों को खाना परोसने और उनकी देखरेख करने वाली 20 ट्रेन हॉस्ट्रेस को बिना नोटिस दिए नौकरी से बाहर कर दिया गया.

इस मामले में कैबिनेट ग्रुप से हटाए गए कर्मचारियों ने रेल मंत्री पीयूष गोयल से भी मदद मांगी है
इन हॉस्ट्रेस का काम वृंदावन फूड प्रोडक्ट की है. यह कंपनी प्राइवेट कॉन्ट्रैक्टर के तौर पर आईआरसीटीसी (IRCTC) के साथ जुड़ी है. इस फर्म ने केबिन क्रु व टंडन के तौर पर 20 से अधिक कर्मचारियों की नियुक्ति की थी लेकिन दो ही महीने के अंदर 20 लोगों को हटा दिया गया.

You May Like : उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण समारोह में मोदी को किया आमंत्रित, मोदी ने कहा-

ट्रेन के क्रू ने बताया कि कंपनी ने बिना किसी नोटिस के नौकरी से निकाला है इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया ,कि 18-18 घंटे काम कराया गया और उन्हें सैलरी भी बहुत देर से मिली. दिवाली पर तेजस एक्सप्रेस में 4 अतिरिक्त बोगियां लगाई गई थी. जिसके लिए अतिरिक्त हॉस्ट्रेस की नियुक्ति की गई थी. परंतु जब यात्रियों की संख्या कम हो गई तो कंपनी ने इन्हें बाहर निकाल दिया.

आगे ट्रेन के मैनेजर अवंतिका सिंह की तरफ से शिकायत में कहा गया कि ट्रेन सुबह 6:10 बजे रवाना होती है. अतः इस कारण 5:00 बजे ही उन्हें ड्यूटी पर आना पड़ता है और रात को ट्रेन वापसी होने तक 18 घंटे की ड्यूटी हो जाती है. एक अन्य ऑस्ट्रेस ने बताया कि एक बार वह बीमार हो गई थी. जिसके कारण उन्हें कानपुर के निजी अस्पताल में भर्ती किया गया लेकिन आराम करने के लिए उन्हें छुट्टी भी नहीं दी गई.

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग न्यूज़

To Top