Advertisements
Personality

डेढ़ लाख बच्चों को जूते पहना चुका यह आइएएस अधिकारी !

नंगे पैर स्कूल जाते वंचित परिवारों के बच्चों को जूते मुहैया कराने में जुटे राजस्थान के आइएएस अधिकारी डॉ. जितेंद्र कुमार सोनी चंदा जुटाकर ‘चरण पादुका अभियान’ चला रहे हैं। बीते पांच साल में डेढ़ लाख बच्चों को जूते इसका लाभ मिल चुका है। राजस्थान के दूरदराज ग्रामीण इलाकों में नंगे पैर स्कूल जाने वाले बच्चों की पीड़ा को समझते हुए आइएएस डॉ. जितेंद्र कुमार सोनी ने पांच साल पहले यह पहल शुरू की थी, जो अब विस्तार पा रही है।

वे दानदाताओं के सहयोग से अब तक प्रदेश के जालौर, झालावाड़, हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर जिलों में इस मुहिम को गति देने में जुटे हुए हैं। इस अभियान के तहत पहले तो वे खुद अपने वेतन से ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में जाकर नंगे पांव दिखने वाले बच्चों को जूते-चप्पल पहनाते थे, लेकिन बाद में उनके इस जज्बे को देखते हुए प्रदेश के कई बड़े दानदाता चरण पादुका अभियान से जुड़ते गए।

नंगे पैर स्कूल जाने वाले राजस्थान के डेढ लाख बच्चों को मिला लाभ, चंदा जुटाकर चलाया जा रहा है अभियान

अशोक गहलोत सरकार ने डॉ. सोनी के इस अभियान की जानकारी जुटाई है और शिक्षा विभागके अधिकारियों को इसके बारे में विस्तृत कार्य योजना बनाने के निर्देश दिए हैं। हालांकि ऐसे निर्देश पिछली वसुंधरा राजे सरकार के कार्यकाल में भी दिए गए थे। राजस्थान के ही श्रीगंगानगर जिला निवासी डॉ. सोनी ने पढ़ाई के दौरान अपने पिता से मिलने वाले जेबखर्च से जरूरतमंद बच्चों को जूते-चप्पल पहनाने का सेवाकार्य शुरू कर दिया था।

बाद में वे जब आइएएस अधिकारी बने तो गांवों में जाकर नंगे पांव नजर आने वाले बच्चों को दुकान पर ले जाकर जूते- चप्पल पहनाने लगे। शिक्षा के लिहाज से प्रदेश के सबसे पिछड़े जिलों में शुमार जालोर में जिला कलेक्टर बने सोनी ने नंगे पांव घूमने वाले बच्चों को दानदाताओं के सहयोग से जूते-चप्पल पहनाने का अभियान शुरू किया।

Advertisements
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top