Latest News

Hyderabad Crime News : हैदराबाद के इस कलयुगी पति ने ₹30000 के लिए अपनी पत्नी को मारा बेरहमी से, कैंची, हथौड़े और पेचकस को बनाया हथियार

हैदराबाद से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आ रहा है जिसे सुनकर आपका भी रोंगटे खड़े हो जाएंगे। एक शख्स ने अपनी पत्नी को सिर्फ इसलिए मार दिया क्योंकि उसके पत्नी ने उसे पैसे देने से इनकार कर दिया था।अब 5 साल की अदालतीं कार्यवाही के बाद अब वह सलाखों के पीछे पहुंच गया है।

पति-पत्नी का रिश्ता हमेशा साथ रहने का रिश्ता होता है जिसमें दोनों एक दूसरे के साथ सुख दुख में चलने की कसम भी खाते हैं लेकिन एक पति की हैवानियत सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे। यह मामला साइबर सिटी नाम से मशहूर हैदराबाद का है। अदालत ने अपने फैसले में कहा कि आरोपी के इस गुनाह के लिए सबसे अच्छी जगह जेल है. इस टिप्पणी के साथ एडिश्नल मेट्रोपोलिटन सेशन जज सीवीएस भूपति 38 साल के उस गुनहगार को सजा सुनाई. इसके अलावा 10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया.

ये भी पढें  अदिति सिद्धार्थ ने कन्फर्म किया रिश्ता इंगेजमेंट रिंग संग शेयर की तस्वीर।

आपको बता दे कि यह मामला साल 2019 का है।इमरान उल हक नाम के एक शख्स ने अपनी पत्नी की बेरहमी से हत्या कर दी थी। साउथ जोन के डीसीपी बताते हैं कि हक छोटी छोटी बात पर अपनी बेगम को टॉर्चर करता था. वह अपनी पत्नी से कर खरीदने के लिए ₹30000 मांग रहा था।छोटी-छोटी बात पर लड़ना झगड़ना और पैसे ना मिलने की वजह से वह अपनी पत्नी से बेहद नाराज रहता था।वह अपनी पत्नी को रास्ते से हटाने की योजना भी बनाने लगा था हालांकि इस बीच को अपनी पत्नी पर पैसे देने के लिए दबाव भी बनाता रहा लेकिन उसकी पत्नी लगातार पैसे देने से इंकार करती रही।

पत्नी के बेरुखी से नाराज शख्स ने इसके बाद बेहद डरावना फैसला लिया। 6 जनवरी 2019 के दिन उसने एक बार फिर अपनी पत्नी से पैसे मांगे लेकिन उसकी पत्नी ने फिर से उसे पैसे देने से इनकार कर दिया।इसके बाद उसके सिर पर खून सवार हो गया और उसने इस तरह की हत्या को अंजाम दिया। इस हत्या के बारे में जानकर आपका भी दिल दहल उठेगा।6 जनवरी 2019 को हक करने पहले अपनी पत्नी के गले में कैंची मारी। यही नहीं फिर सर पर हथौड़े से वार किया जब उसे लगा कि उसकी पत्नी मर चुकी है तो वह वारदात वाली जगह से भागने का फैसला करने लगालेकिन उससे पहले प्राइवेट पार्ट में पेच भी डाला.

ये भी पढें  Muslim girls Picture of Shri Ram : मुस्लिम छात्राओं ने अपने हाथों पर मेहंदी से बनवाई भगवान राम की तस्वीर, तो मौलाना हुए गुस्सा, पहुंचे थाने

पुलिस का कहना है कि पीड़ित परिवार की शिकायत के बाद आईपीसी की धारा 302 में केस दर्ज किया गया. हक की गिरफ्तारी में किसी तरह की दिक्कत नहीं आई. उससे पूछताछ की लेकिन आम अपराधियों की तरह वो इनकार करता रहा. हालांकि मौके पर जो साक्ष्य मिले थे वो उसके गुनाह की तरफ इशारा कर रहे थे. कड़ाई से पूछताछ के बाद वो टूट गया और सिलसिलेवार वारदात का जिक्र किया.