खेत में माता-पिता का हाथ बंटाती, गांव के स्कूल में पढ़ी, ना कोचिंग, ना फोन, सेल्फ स्टडी से IAS बनीं

नई दिल्ली: संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की तैयारी के लिए कई ऑनलाइन माध्यम हैं। जिनके पास महंगी कोचिंग फीस और किताबों के लिए पैसे नहीं हैं, वे ऑनलाइन पढ़ाई करते हैं। वहीं एक लड़की ने बिना ऑनलाइन क्लास और कोचिंग के सेल्फ स्टडी कर यूपीएससी में 257 रैंक हासिल किया। उत्तराखंड की रहने वाली प्रियंका दीवान के घर में स्मार्टफोन तक नहीं है। उनका घर चमोली जिले के देवाल प्रखंड के एक छोटे से गांव रामपुर में है उनके पिता पेशे से एक किसान हैं। कोचिंग की फीस भरने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे। यहां तक ​​कि प्रियंका भी अपने पिता की खेतों में मदद किया करती थी। गांव में पक्की सड़क और उच्च विद्यालय नहीं है। उनके पिता की हालत इतनी अच्छी नहीं थी कि किसी बच्चे को निजी स्कूल में भेज सके।

बेटी ने यूपीएससी पास की और परिवार वालों को चार दिन बाद इस खबर का पता चला
प्रियंका दीवान आईएएस बनीं, इसकी जानकारी उनके परिवार वालों को चार दिन बाद मिली। प्रियंका बताती हैं कि उनके घर में फोन नहीं है इसलिए वह यह खुशखबरी अपने घरवालों को नहीं दे पाईं। गांव के एक आदमी ने अपने पिता से कहा कि यूपीएससी का रिजल्ट आ गया है, आपकी बेटी का क्या रिजल्ट आया? फिर उसने उस शख्स से फोन मांगने के बाद प्रियंका को फोन किया। इसके बाद घरवालों को पता चला कि प्रियंका ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली है.

अपने गांव से 3 किमी. बहुत दूर जाना पड़ता था

प्रियंका ने एक इंटरव्यू में बताया है कि उनके गांव में कोई हाई स्कूल नहीं है। छठी कक्षा के बाद से उसे अपने गाँव से तीन किलोमीटर दूर तोरती गाँव में पढ़ने जाना पड़ा। वह रोजाना तीन किलोमीटर पैदल चलकर आती थी। वहीं से उन्होंने 10वीं की परीक्षा पास की। गांव के कुछ लोगों ने पिता से कहा कि तुम्हारी बेटी पढ़ाई में बहुत होशियार है। इसे किसी और तरीके से पढ़ाएं। फिर पिता को गांव से 100 किमी दूर गोपेश्वर क्षेत्र के एक कॉलेज में ग्रेजुएशन में दाखिला मिल गया। यहां पहले साल एक डीएम एक समारोह में आए थे। उन्होंने कॉलेज की छात्राओं को यूपीएससी की तैयारी करने की सलाह दी। यहीं से प्रियंका को यूपीएससी करने का जुनून सवार हो गया। उसके बाद उन्होंने यूपीएससी से जुड़ी तमाम जानकारियां जुटानी शुरू कीं। सिलेबस क्या है? कैसे पढ़ें काफी जानकारी इकट्ठी की और यूपीएससी की तैयारी प्रथम वर्ष से शुरू कर दी। एक विद्यालय में पढ़ाना शुरू किया। ताकि कुछ पैसे खर्च करने में काम आ जाएं।

कभी पिता के साथ खेतों में करती थी काम, अब अफसर बनेगी बेटी, पहले ही प्रयास  में क्लियर किया UPSC

एलएलबी की पढ़ाई करने मामा के घर पहुंची देहरादून

ग्रेजुएशन के बाद प्रियंका दीवान एलएलबी की पढ़ाई के लिए अपने पास देहरादून आ गईं। यहां उन्होंने मास्टर इन लॉ किया। इस दौरान एक निजी कंपनी में नौकरी करती रही। नौकरी के बाद घर पर पढ़ाई करने के बाद उन्होंने 2019 में पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी और पास हुई।

Facebook Comments Box