Helicopter Crash: ‘मेरे पिता हीरो थे’, ब्रिगेडियर लिड्डर की बेटी ने नम आंखों से दी अंतिम विदाई

Copy

कुन्नूर हेलिकॉप्टर क्रैश में सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत के अलावा 11 अन्य लोगों ने अपनी जान गंवा दी। इसी हादसे में जान गंवाने वाले ब्रिगेडियर एलएस लिड्डर आज यानि कि शुक्रवार को अंतिम विदाई दी गई। इस दौरान उनकी पत्नी ने कहा, हमें मुस्कुराते हुए उन्हें विदाई देनी चाहिए। बकौल गातिका लिड्डर “हमें उन्हें हंसते हुए अच्छी विदाई देनी चाहिए। जिंदगी बहुत लंबी है, अब अगर भगवान को ये ही मंजूर है तो हम इसके साथ ही जीएंगे, वो एक बहुत अच्छे पिता थे, बेटी उन्हें बहुत याद करेगी। यकीनन ये बहुत बड़ा और कभी न भरने वाला नुकसान । ब्रिगेडियर एलएस लिड्डर की पत्नी के अलावा उनकी बेटी ने कहा, मेरा पिता हीरो थे।

madhulika rawat

ब्रिगेडियर एलएस लिड्डर की बेटी आश्ना लिड्डर ने कहा, मैं 17 साल की होने वाली हूं। मेरे पिता मेरे साथ 17 साल रहे। मैं उनकी अच्छी यादों के साथ आगे बढ़ूंगी। मेरे पिता का जाना राष्ट्र के लिए नुकसान है। मेरे पिता हीरो थे। वे मेरे अच्छे दोस्ते थे। शायद उनका जाना हमारी किस्मत हो सकता है, या बेहतर चीजें आगे आएंगी। वे मेरे सबसे बड़े प्रेरक थे।

madhulika rawat

मालिम हो कि ब्रिगेडियर एलएस लिड्डर के पार्थिव शरीर को आज यानि कि शुक्रवार को बेस हॉस्पिटल से दिल्ली कैंट के बरार स्क्वायर में लाया गया। फिर सुबह 9.30 बजे यही उनका अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार से पहले उनकी पत्नी गातिका लिड्डर और बेटी आश्ना लिड्डर ने नम आँखों से उन्हें अंतिम विदाई दी।

Facebook Comments Box