आज निपटा लें सभी जरूरी काम, कल देशभर में बंद रहेंगी स्वास्थ्य सेवाएं; डॉक्टरों के खिलाफ FIR दर्ज…

Copy

नीट-पीजी कि काउंसलिंग 2021 (Neet – PG 2021) में हो रही देरी के खिलाफ देशभर के डॉक्टरों अब लामबंद हो गए है। साथ ही डॉक्टर्स ने अपना आंदोलन भी अब तेज कर दिया है। कल यानि कि 29 दिसंबर 2021 को देशभर में सभी स्वास्थ्य सेवाएं ठप रहेंगी। दिल्ली पुलिस की कार्रवाई से नाराज डॉक्टरों ने देशभर में सभी स्वास्थ्य सेवाएं बंद रखने का ऐलान कर दिया है। मालूम हो कि बीते दिनों दिल्ली में बड़ी संख्या में रेजिडेंट डॉक्टरों ने प्रदर्शन किया और इसी दौरान सड़कों पर पुलिस और डॉक्टरों के बीच झड़प हो गई। अब दोनों पक्षों का ये दावा है कि उनकी ओर के कई लोग घायल हुए हैं।

पुलिस बल की कार्रवाई से नाराज डॉक्टरों के एसोसिएशन यानि फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन (FAIMA) ने बताया कि 29 दिसंबर को सुबह 8 बजे से देश भर में सभी स्वास्थ्य सेवाओं को पूरी तरह से बंद रहेंगी। FAIMA ने कहा है कि वह दिल्ली पुलिस के क्रूर रवैये के विरोध में यह हड़ताल कर रहे हैं। जानकारी हो कि फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन पिछले कई दिनों से नीट पीजी काउंसलिंग 2021 में देरी के चलते विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं दिल्ली के आईपी एस्टेट पुलिस स्टेशन में डॉक्टरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है।

आज निपटा लें सभी जरूरी काम, कल देशभर में बंद रहेंगी स्वास्थ्य सेवाएं; डॉक्टरों के खिलाफ FIR दर्ज
hospital

मालूम हो कि इससे पहले रेजिडेंट डॉक्टरों ने अपना आंदोलन तेज करते हुए सोमवार को सड़कों पर मार्च निकाला था। डॉक्टरों के आंदोलन जारी रहने से केंद्र द्वारा संचालित तीन अस्पतालों-सफदरजंग, आरएमएल और लेडी हार्डिंग अस्पतालों के साथ ही दिल्ली सरकार के अस्पतालों में मरीजों का इलाज प्रभावित है।

छवि

वही, एसोसिएशन के अध्यक्ष मनीष ने दावा किया है कि बड़ी संख्या में प्रमुख अस्पतालों के रेजिडेंट डॉक्टरों ने सोमवार को विरोध स्वरूप प्रतीकात्मक तौर पर अपना एप्रन (लैब कोट) वापस कर दिया।बकौल मनीष, ‘हमने मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज (एमएएमसी) परिसर से सुप्रीम कोर्ट तक मार्च करने की भी कोशिश की, लेकिन जैसे ही इसे हमने शुरू किया, सुरक्षाकर्मियों ने हमें आगे बढ़ने से रोक दिया’। मनीष ने यह भी आरोप लगाया कि कई डॉक्टरों को पुलिस ने हिरासत में लिया और उन्हें थाने ले जाया गया। हालांकि मनीष ने ये भी कहा-, कुछ समय बाद उन्हें रिहा कर दिया गया। पर मनीष के अनुसार पुलिस ने बल का इस्तेमाल किया जिससे कुछ डॉक्टर घायल हो गए। जानकारी हो कि पूरी घटना कि तस्वीरें एसोसिएशन ने अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट कीं हैं।

Facebook Comments Box