फैक्ट चेक : मुस्लिम बारातियों द्वारा जबरदस्ती नॉनवेज खिलाने पर हिंदू ड्राइवर ने नदी में कुदाई बस ? गलत है ये कहानी

आपको बता दें कि कुछ समय से बस हादसे की एक बहुत ही भयंकर तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. इस तस्वीर में एक उफनती हुई नदी में एक बस डूबी हुई है, आस पास कई सारे लोग भीड़ इकट्ठा किए हुए हैं.

लोग ऐसा बता रहे हैं कि यह 90 के दशक की एक बस दुर्घटना की फोटो है. आपको बता दें कि इस घटना से जुड़ी एक हैरान कर देने वाली बात भी लोगों द्वारा किया जा रहा है.

लोग ऐसा कह रहे है कि ये घटना ताशिर मोहम्मद नामक एक शख्स के बेटे की शादी में घटी थी. बारात मुरैना से आगरा जा रही थी. कुछ बारातियों ने जबरदस्ती ब्राम्हण ड्राइवर को मांस खिलाया जिसके बाद उसने गुस्से में आकर बस चंबल नदी में कुदा दी. इस दुर्घटना में ड्राइवर समेत 90 यात्रियों की मौत हो गई.

इंडिया टुडे न्यूज एजेंसी ने अपने फेक न्यूज वॉर रूम में इसकी पड़ताल किया . इंडिया टुडे ने अपने पड़ताल मे पाया कि ऐसी कोई घटना भारत में घटी ही नहीं है बल्कि चित्र में दिखाई गई घटना नेपाल की है.

Facebook Post

बिहार की एक वेबसाइट ‘डेली बिहार’ ने इस हैरान कर देने वाली कथित बस दुर्घटना को लेकर खबर छापी, फिर उसे बाद में हटा दिया गया.

वायरल तस्वीर की हकीकत-
इस तस्वीर के बारे में सर्च करने पर ऐसा पाया गया कि यह खबर ‘द काठमांडू पोस्ट’ की एक न्यूज़ रिपोर्ट की ह . 2019 की इस रिपोर्ट में बताया गया है कि ये बस काठमांडू में स्थित त्रिशूली नदी में गिरी थी. इस हादसे में करीब 5 लोगों की मौत हुई थी और 23 लोग लापता हो गए थे. ये हादसा तब हुआ था जब ये बस मलंगवा कस्बे से काठमांडू जा रही थी. तस्वीर के साथ दिए गए कैप्शन के मुताबिक, ये फोटो तब ली गई थी जब पुलिस कर्मी और रेस्क्यू टीम के सदस्य हादसे में लापता हुए यात्रियों को ढूंढ़ने का प्रयास कर रहे थे.

बिना जांच किए ही सोशल मीडिया पर डाला गया था यह खबर – इंडिया टुडे ने डेली बिहार के हेड रोशन झा से संपर्क किया. रोशन झा ने बताया कि खबरों ने फेसबुक पर मिली थी उसके बाद उन्होंने अपनी वेब साइट पर यह खबर को छाप दिया. लेकिन आज तक के पड़ताल के बाद उन्होंने अपनी वेबसाइट से यह खबर हटा दिया.

आज तक को इस घटना के बारे में कोई भी सच्चाई नहीं मिली.अगर 90 के दशक में या घटना हुई होती तो कहीं ना कहीं इसके बारे में खबर जरूर छपी होती.

इस कहानी को लेकर आज तक ने मुरैना के कुछ स्थानीय पत्रकारों से भी बात हुई थी. सभी ने यही कहा कि उन्होंने ऐसी किसी दुर्घटना के बारे में नहीं सुना और यह खबर गलत है.

Facebook Comments Box