Politics

दिल्ली चुनाव : अरविंद केजरीवाल की जीत के साथ ही शाहिनबाग से आई ऐसी खबर,उड़ जाएंगे सभी के होश

Advertisement

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि दिल्ली में चुनाव का दौर खत्म हो गया है, और नतीजा अब सबके सामने हैं। दिल्ली में चुनाव को लेकर पिछले कई दिनों से बहुत सारी रैलियां चली है, दिल्ली के शाहीन बाग में सीएए और एनआरसी को लेकर विरोध प्रदर्शन भी जारी है, आज शाहीन बाग में सुबह से ही काफी शांति दिखाई दी,जब इसकी वजह जानी तो एक अलग ही नजारा देखने को मिला.

यहां हो रहे विरोध प्रदर्शन में लोग मौन धारण करते हुए नजर आए, यहां बैठी महिलाओं ने मौन रखा हुआ था, और जहां यह बैठे हैं वहां से आज के दिन कोई भाषण नहीं दिया जाएगा। साथ ही इनके मौन रखने का कारण चुनाव के नतीजे में यहां से बोलने पर गलत संदेश न जाए, इसलिए इन लोगों ने मौन धारण किया हुआ था। जामिया में हुई हिंसा है।

यह भी पढ़ें-  DNA analysis truth of hathras gangrape case | हाथरस का अधूरा नहीं, संपूर्ण सच, न्याय के लिए शर्तें क्यों?

शाहीन बाग में सुबह से ही सभी महिलाएं मौन रखे हुए हैं, जब उनसे पूछने की कोशिश की तो बोलने से मना कर दिया और एक पोस्टर दिखा कर इशारा किया, कि आज मौन रखा हुआ है, यह पूछने पर क्यों यह मौन हैं? तो एक बगल में एक प्ले कार्ड्स बना रहे लड़के ने लिखकर कहा कि चुनाव के नतीजे और जामिया को लेकर कर रहे हैं.

दिल्ली चुनाव को लेकर एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि यहां से हम किसी राजनीतिक पार्टी को समर्थन नहीं देता है, और यहां किसी ना किसी कि हम बुराई करेंगे और ना ही भलाई करेंगे , इसलिए हम सभी लोग आज मौन रखे हुए हैं, ताकि यहां से कोई गलत संदेश न चला जाए।

यह भी पढ़ें-  Jammu Kashmir Pakistan trying infiltrate maximum terrorists before winter sets | J&K: आतंकियों की घुसपैठ नाकाम करने में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी

यह पूछने पर कि यह मौन धारण कब तक चलेगा उसने कहा कि सिर्फ सुबह से रात तक ही हमारा मौन चलेगा ताकि हम से कोई चुनाव को लेकर कोई सवाल न पूछे और हम जब उसका जवाब दें कोई गलत संदेश ना जाए, उधर दिल्ली विधानसभा में 8 फरवरी को हूए मतदान सोमवार को शुरुआती रुझानों से पीछे चल रही हो गई है.

ओखला सीट पर कांग्रेस ने के प्रवेश हाशमी सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के उम्मीदवार से पीछे चल हो गए हैं, गांधीनगर सीट से अरविंद केजरीवाल लवली और सीलमपुर सीट पर चौधरी मतीन अहमद भी पीछे हो गए हैं। हालांकि हारून यूसुफ बल्लीमारान सीट पर अपनी बढ़त बनाए हुए हैं।

यह भी पढ़ें-  Babri demolition decision may give political edge to BJP|बाबरी विध्वंस फैसला भाजपा को दे सकता है सियासी बढ़त

कांग्रेस उम्मीदवार आप से पीछे चल रहे हैं, नागरिकता संशोधन अधिनियम सीएए विरोधी प्रदर्शन के केंद्र ओखला में मतदाताओं की पहली पसंद ‘ आप’ है। शुरुआती रुझानों में आप 59 सीटों पर और भाजपा 12 सीटों पर और कांग्रेस 1 सीटों पर आगे चल रही थी।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग न्यूज़

To Top