Advertisement
Categories: देश

CCD के फाउंडर के बेटे के साथ हुई डीके शिवकुमार की बेटी की सगाई

सगाई के इस खास मौके पर परिवार और करीबी दोस्तों के अलावा मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी पहुंचे थे.

बेंगलुरु. कर्नाटक कांग्रेस के प्रमुख डीके शिवकुमार (DK Shivakumar) की बेटी ऐश्वर्या की सगाई गुरुवार को कैफे कॉफी डे (CCD) के फाउंडर वीजी सिद्धार्थ के बेटे अमर्त्य के साथ हुई. बता दें कि सिद्धार्थ की पिछले साल मौत हो गई थी. अमर्त्य, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता एसएम कृष्णा के नाती हैं. सगाई के समारोह में कांग्रेस और बीजेपी के नेताओं का जमावड़ा दिखा. ये सगाई बेंगलुरु में हुई.

खास समारोह में पहुंचे कई नेता
सगाई के इस खास मौके पर परिवार और करीबी दोस्तों के अलावा मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी पहुंचे थे. खास बात ये रही कि एक दूसरे के धुर-विरोधी येदियुरप्पा और शिवकुमार एक दूसरे का हाथ थामे भी देखे गए. कुछ ही महीने पहले ये दोनों नेता कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे. अब ये दोनों ठीक हो गए हैं. सगाई का ये खास समारोह एमएस कृष्णा के घर पर हुआ. कृष्णा दशकों तक कांग्रेस के साथ जुड़े रहे थे. साल 2009 से 2012 तक कांग्रेस की सरकार के दौरान उन्होंने विदेश मंत्री का पद भी संभाला था. लेकिन बाद में वो साल 2017 में बीजेपी में शामिल हो गए थे.

https://twitter.com/deepab18/status/1329329829599080449?ref_src=twsrc%5Etfw मनी लॉन्ड्रिंग केस में पूछताछ
बता दें कि ईडी ने इस साल सितंबर में डीके शिवकुमार की बेटी ऐश्वर्या से मनी लॉन्ड्रिंग केस में पूछताछ की थी. 58 साल के शिवकुमार प्रदेश में कांग्रेस के ताकतवर नेता हैं. पिछले साल उन्हें मनी लॉन्ड्रिंग केस में ईडी ने गिरफ्तार किया था. बाद में 23 अक्टूबर को उन्हें दिल्ली हाई कोर्ट से जमानत मिल गई थी.

ये भी पढ़ें:- दिल्ली में 24 घंटे में मिले कोरोना के 7546 मरीज, मौत का आंकड़ा 8 हजार के पार

पिछले साल हुई थी वीजी सिद्धार्थ की मौत
अमर्त्य के पिता वीजी सिद्धार्थ की पिछले साल अगस्त में मौत हो गई थी. कैफे कॉफी डे की शुरुआत जुलाई 1996 में बेंगलूरू की ब्रिगेड रोड से हुई. पहली कॉफी शॉप इंटरनेट कैफे के साथ खोली गई. इंटरनेट उन दिनों देश में पैठ बना रहा था. सीसीडी आज देश की सबसे बड़ी कॉफी रिटेल चेन है. इस समय देश के 247 शहरों में सीसीडी के 1700 से ज्यादा कैफे हैं.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.