मेरे PhD के साथ मुकाबला नहीं कर सकते, मोदी भक्तों की समस्या यह है कि वे आधे पढ़े-लिखे : BJP पूर्व सांसद

Copy

बीजेपी के पूर्व राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी अपने बयानों से अपनी ही पार्टी के लिए मुश्किलें खड़ी करते रहते हैं. वह आए दिन पीएम मोदी सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते नजर आते हैं. वहीं ट्विटर पर अपने ट्वीट को लेकर उन्हें ट्रोल भी किया जाता है. बीजेपी के पूर्व सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का आरोप है कि पीएम मोदी के अंधे कर्मचारी हैं जो पैसे लेते हैं और मुझे गालियां देते हैं लेकिन मैं अपने ट्वीट खुद करता हूं. बता दें कि सुब्रमण्यम स्वामी ने एक बार फिर एक ट्वीट के जरिए मोदी समर्थकों पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के आधे पढ़े-लिखे भक्त मेरी पीएचडी का मुकाबला नहीं कर सकते.

can't cope with my phd
मेरे PHD के साथ मुकाबला नहीं कर सकते मोदी भक्तों

सुब्रमण्यम स्वामी ने एक ट्वीट में लिखा, “ट्विटर पर पीएम मोदी भक्तों के साथ समस्या यह है कि वे आधे साक्षर हैं। वे मेरे पीएचडी और ज्ञान के आधार पर ट्वीट का मुकाबला नहीं कर सकते। तो उस स्थिति में वे सभी मंदबुद्धि दुर्व्यवहार करते हैं, जिससे वे अवरुद्ध हो जाते हैं। दयनीय!”

हाल ही का ट्वीट :-

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘मेरे 10 मिलियन से ज्यादा रियल फॉलोअर्स हैं, जबकि मेरा अपमान करने वाले ट्वीट करने वाले ज्यादातर यूजर्स के सिर्फ 10 से 20 फॉलोअर्स हैं। इसके लिए उन्हें ट्विटर पर पैसे मिलते हैं।”

बता दें कि यह पहला ट्वीट नहीं है जिसमें सुब्रमण्यम स्वामी ने भाजपा पर निशाना साधा है, इससे पहले भी वह अपने बयानों से केंद्र सरकार को घेर चुके हैं। इसी साल 23 मई को उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा कि ट्विटर पर पीएम मोदी और मुझमें यह फर्क है कि उन्होंने अंध भक्तों और गंधभक्तों को पैसे देकर मुझे और मेरे परिवार को सबसे ज्यादा गाली देने के लिए हिरेन जोशी को काम पर रखा था.

सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा कि मैं अपने ट्वीट खुद करता हूं और खुद को एक दायरे तक सीमित रखता हूं। इसे दोनों तरफ से रोकना होगा नहीं तो यह सिलसिला जारी रहेगा। दरअसल, पिछले कुछ सालों से सुब्रमण्यम स्वामी आरोप लगाते रहे हैं कि बीजेपी आईटी सेल उन्हें लगातार निशाना बना रही है. सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि बीजेपी का आईटी सेल उनके खिलाफ फर्जी अकाउंट के जरिए ट्वीट करता है। हालांकि उन्होंने इसकी शिकायत पीएम मोदी से भी की है. लेकिन यह जारी है।

Facebook Comments Box