Politics

इन तीन बड़े कारणों से दिल्ली चुनाव में मात खा गई भाजपा,दूसरा कारण तो है सबसे खास

Advertisement

दिल्ली में चुनाव के नतीजे सबके सामने आ गए हैं,और इसमें आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार ने अपना बहुमत कायम कर लिया है और फिर से अपनी सरकार बना ली है। दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के नतीजों को सबको इंतजार था, और 11 फरवरी को नतीजा आने के साथ साथ ही भारतीय जनता पार्टी को जोरदार झटका लगा, सुबह से ही रुझान आने शुरू हो गए थे.

जो आम आदमी पार्टी के पक्ष में आ रहे थे, और भाजपा को इससे करारा झटका लग गया है।अरविंद केजरीवाल पहले से ही अपनी जीत का दावा कर रहे थे,वहीं भाजपा के दावे खोखले साबित हो गए हैं।आज हम आपको बताएंगे की कौन सी ऐसी तीन कारणों से भाजपा दिल्ली की चुनाव में मात खा गई? भारतीय जनता पार्टी विधानसभा चुनाव में मत खाने का पहला कारण….

यह भी पढ़ें-  dna analysis pm modi slams opposition protest against farm act 2020 | DNA ANALYSIS: विपक्ष के विरोध पर प्रधानमंत्री मोदी के सवाल

1 कारण:- बुनियादी मुद्दों पर जोर न देकर राष्ट्रीय मुद्दों पर ज्यादा तवज्जो देना था, भाजपा ने दिल्ली और दिल्ली वालों की समस्याओं पर गहराई से पड़ताल ना कर सिर्फ राष्ट्रीय मुद्दे को ही उठाया जो दिल्ली की जनता को प्रभावित ना कर सका, और दिल्ली वालों ने भाजपा को इंकार कर दिया, जिससे भाजपा की सरकार गिर गई।

2 कारण:- भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली में मात खाने की दूसरी और बड़ी वजह थी भाजपा ने चुनाव लड़ा जमकर प्रचार भी किया, लेकिन अपने सीएम पद का चेहरा ही सामने नहीं ला सकी, जो बस मोदी के नाम पर ही चुनाव लड़ती रही, वहीं दिल्ली की जनता के सामने अरविंद केजरीवाल के रूप में आप का करिश्माई चेहरा सबके सामने था, जो कि भाजपा यहां पर झुक गई और जनता ने केजरीवाल के पक्ष में ज्यादा से ज्यादा वोट गिराया, और दिल्ली की जनता ने इसी कारण से भाजपा को नकार दिया।

यह भी पढ़ें-  dna analysis pm modi slams opposition protest against farm act 2020 | DNA ANALYSIS: विपक्ष के विरोध पर प्रधानमंत्री मोदी के सवाल

3 कारण:- दिल्ली में भाजपा की हार का तीसरा सबसे बड़ा कारण नागरिकता संशोधन कानून सीएए और एनआरसी का डर रहा, सीएए के विरोध की वजह से अल्पसंख्यक मत भाजपा से खिसक गया, और उन्होंने एकजुट होकर आम आदमी पार्टी के पक्ष में अपना सारा वोट गिरा दिया.

वहीं भाजपा ने शाहीन बाग के मुद्दे को भुनाने की कोशिश की लेकिन वहां भी उनके दावों सफल नहीं हो सके और कांग्रेस का वोट भी खिसक कर आप आदमी पार्टी के पास चला गया। तो यही तीनों सबसे बड़ा कारण था जिससे दिल्ली में भाजपा की सरकार न बन सकी और आम आदमी पार्टी की सरकार ने हैट्रिक लगा दिया।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग न्यूज़

To Top