कोर्ट में आर्यन के वकील ने कहा था- वो ड्रग्स क्यों बेचेगा, पूरा क्रूज खरीद सकता था,NCB के वकील ने दिया ये जवाब

Copy

मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी केस में सोमवार को बॉलीवुड स्टार शाहरुख़ खान के बेटे आर्यन खान समेत सभी आरोपियों की पेशी हुई. इस मामले में आर्यन खान को 7 अक्टूबर तक NCB की कस्टडी में रहना होगा. कोर्ट ने आर्यन और उसके साथ गिरफ्तार अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमीजा कोके अलावा अन्य 5 आरोपी विक्रांत छोकर, इश्मीत सिंह, नुपुर सारिका, गोमित चोपड़ा और मोहक जसवाल को भी 7 अक्टूबर तक NCB की रिमांड पर भेज दिया है. हालांकि इस सुनवाई के दौरान आर्यन के वकील सतीश मानशिंदे और NCB की तरफ से पेश सरकारी वकील के बीच तीखी बहस भी हुई.

सुनवाई के दौरान NCB ने आरोपियों से बरामद ड्रग्स की जानकारी दी कौर आर्यन के साथ पैडलर्स के संबंध का भी जिक्र हुआ. हालांकि एनसीबी की कहानी का विरोध करते हुए आर्यन के वकील सतीश मानशिंदे ने कहा- खान (आर्यन) वहां ड्रग्स बेचने के लिए नहीं गए थे, अगर वो चाहते तो पूरा शिप भी खरीद सकते थे. अगर जांच ही करनी है तो शिप पर एक हजार लोग थे, उनकी भी जांच कीजिए.

पढ़िए आर्यन की तरफ से मानशिंदे ने क्या कहा?

मानशिंदे ने आर्यन की ओर से कहा- मैं अधिकार के तौर पर जमानत नहीं मांग रहा हूं. सच्चाई ये है कि मुझे क्रूज पर हिरासत में नहीं लिया गया. मुझे वहां स्पेशल गेस्ट के तौर पर इनवाइट किया गया था और मैं एक दोस्त के साथ वहां गया था. मैं तो ये भी नहीं जानता कि क्रूज पर मुझे कौनसा केबिन अलॉट किया गया था. आर्यन ने दावा किया है कि उसने क्रूज पर जाने के लिए एक भी पैसा नहीं दिया और न ही उसने किसी ऑर्गनाइजर को पहले से जानने की बात स्वीकार की है. बयान के मुताबिक़ आर्यन के पास से प्रतिबंधित ड्रग्स बरामद नहीं हुई थी. दोस्त को इसलिए गिरफ्तार किया गया, क्योंकि उसके पास 6 ग्राम चरस थी.

इंटरनेशनल ड्रग ट्रैफिकिंग से जुड़े होने के दावे गलत-
आर्यन के बयान इमं कहा गया है कि पूछताछ के दौरान मेरे वॉट्सअप चैट्स डाउनलोड किए गए. अब ये दावा किया जा रहा है कि मैं इंटरनेशनल ड्रग ट्रैफिकिंग से जुड़ा हुआ हूं. मैं साफ कर देना चाहता हूं कि जितना वक्त मैंने विदेश में गुजारा, मेरा किसी ड्रग ट्रैफिकिंग, सप्लाई या डिस्ट्रीब्यूशन से कोई ताल्लुक नहीं रहा. मेरे चैट्स, डाउनलोड्स, पिक्चर्स या किसी और चीज से यह कतई साबित नहीं होता कि मेरा इस मामले से कोई संबंध है. अगर चैट्स में ड्रग्स के बारे में कोई बातचीत हुई भी है तो इसका यह मतलब कतई नहीं है कि मैं ड्रग ट्रैफिकिंग से जुड़ा हुआ हूं. रिया चक्रवर्ती के मामले में भी धारा 27ए हटाई गई थी, इसलिए मुझे रिमांड पर भेजने के बजाए जमानत दी जाए.

सरकारी वकील ने भी दिया जवाब-
आर्यन के इस बयान के पढ़े जाने के बाद सरकारी वकील ने कहा कि हम कस्टडी की अर्जी लगा रहे हैं तो इसके पहले जमानत कैसे मांगी जा सकती है. इस पर मानशिंदे ने सुप्रीम कोर्ट के एक पुराने फैसले का हवाला देते हुए कहा कि वॉट्सअप चैट्स के आधार पर किसी को आरोपी नहीं बनाया जा सकता, उन्होंने इस मामले में रिया चक्रवर्ती केस का हवाला भी दिया. हालांकि सरकारी वकील ने कहा कि आरोपी आर्यन शिप पर बुलावे के बाद गया था. वह वहां उन लोगों के बीच मौजूद था, जिन्हें ड्रग्स के साथ पकड़ा गया है. उनके और दूसरे लोगों के बीच नशीली दवाओं के बारे में बातचीत हो रही थी. इन सभी बातों की जांच होना जरूरी है.

सरकारी वकील ने कहा कि चैट में ड्रग्स की थोक खरीद का भी जिक्र है इससे पता चलता है कि आर्यन और बाकी लोगों के बीच कुछ कनेक्शन था. सभी नियमित संपर्क में थे और इसमें सप्लायर को समझा जा सकता है. आर्यन उन व्यक्तियों की हिरासत में पाए गए जिनके पास यह प्रतिबंधित सामग्री पाई गई थी. ड्रग्स डीलर्स के साथ आपकी बातचीत होती है और ये सभी परिस्थितियां जांच की ओर ले जा रही हैं. हम जांच के प्रारंभिक चरण में हैं, इसलिए जमानत पर अभी विचार करने की जरूरत नहीं है. एनसीबी के अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने आरोपियों से 13 ग्राम कोकीन, 5 ग्राम एमडी, 21 ग्राम चरस, एमडीएमए (एक्स्टसी) की 22 गोलियां और 1.33 लाख रुपये नकद जब्त किए हैं.

Facebook Comments Box