देश-समाज

कुत्तो की वफादारी की मिसाल ! मालिक को बचाने के लिए दो पालतू कुत्तों ने खुद दे दी जान, सांप के कर दिए दो टुकड़े

कहते हैं कुत्तों से ज्यादा वफादार जानवर इस दुनिया में कोई नहीं होता. लोग कुत्तों की वफादारी की अक्सर कसम खाते हैं. ऐसे ही वफादारी का एक मामला उत्तर प्रदेश के भदोही में देखने को मिला है.भदोही जिले में एक डॉक्टर के घर की रखवाली कर रहे दो वफादार कुत्तों ने घर में रहे लोगों की जान एक जहरीले सांप से बचाने के लिए खुद कुर्बानी दे दी। इन दोनों कुत्तों ने सांप के दो टुकड़े कर दिए, लेकिन सांप और कुत्ते की लड़ाई के बीच सांप ने दोनों कुत्तों को डस लिया था जिसके कारण कुत्तों की मौत हो गई. इन दोनों कुत्तों की मौत के बाद से परिवार काफी दुखी है.

जर्मन शेफर्ड प्रजाति के थे दोनों कुत्ते- आपको बता दें कि यह मामला उत्तर प्रदेश के जयरामपुर का है जहां एक डॉक्टर, डॉक्टर राजन का घर है. डॉ. राजन ने दो जर्मन शेफर्ड प्रजाति के कुत्ते पाले थे। दोनों कुत्ते डॉ. राजन के घर के गेट पर रहकर परिवार की सुरक्षा करते थे। जिस दिन यह घटना घटी उस दिन डॉ राजन के घर कोई नहीं था उनके घर से एक चौकीदार गुड्डू था, और यह दोनों कुत्ते घर के आगे घर की रखवाली कर रहे थे.

sheru and coco

काफी देर चली कुत्तों और सांप में लड़ाई- राजन ने बताया कि उनके घर के गेट के तरह जहरीला सांप आ रहा था. जैसे ही दोनों कुत्तों की नजर ताप पर पड़ी वह दोनों सांप के ऊपर टूट पड़े. सांप और कुत्तों के बीच काफी देर तक लड़ाई चली. इस दौरान कुत्तो ने सांप को मारकर उसे दो टुकड़ों में कर दिया। कुत्तों के भौंकने की आवाज सुनकर चौकीदार भी मौके पर पहुंच गया था जहां उसने देखा कि सांप दो टुकड़ों में मरा पड़ा है। हालांकि, कुछ देर बाद कुत्तों की तबियत बिगड़ी और दोनों की मौत हो गई।

आठ साल से साथ थे दोनों कुत्ते- डॉ राजन ने बताया कि वह अपने परिवार के साथ कुछ दिन में घर आने वाले थे, अगर यह सांप घर में आ जाता तो यह किसी को डस लेता जिससे किसी की मौत हो सकती थी. घर मे चौकीदार भी था लिहाजा उसकी जान को सुरक्षित करने के लिए कुत्ते सांप से लड़ गए। दोनों कुत्ते आठ साल से साथ थे और काफ़ी वफादार थे। घर के लोगों के अलावा को किसी को गेट से अंदर नहीं आने देते थे। दोनों के मौत से हमें बहुत दुःख है। वे हमारे परिवार के सदस्य की तरह हमारे साथ रहते थे।

Jyoti Mishra

Leave a Comment

Recent Posts