कलयुग के बीत चुके हैं 5124 वर्ष इतने साल बाद खत्म हो जाएगा ये युग, जब भगवान विष्णु लेंगे कल्कि अवतार

कहा जाता है कि यह कलयुग चल रहा है। सनातन धर्म और वेद चार युगों को मान्यता देते हैं। जिसके अनुसार सतयुग में स्वयं देवता, किन्नर और गंधर्व पृथ्वी पर रहते थे। श्रीराम का जन्म त्रेता युग में हुआ था। फिर द्वापर युग में श्रीकृष्ण का जन्म हुआ। वर्तमान में चल रहे कलयुग का काल सबसे छोटा बताया गया है। मान्यता है कि कलयुग में भगवान विष्णु के दसवें अवतार कल्कि कहलाएंगे।

This era will end after so many years
कलयुग के बीत चुके हैं 5124 वर्ष इतने साल बाद खत्म हो जाएगा ये युग

जिसके अनुसार इस युग में पाप इतना अधिक होगा कि पूरी सृष्टि का संतुलन बिगड़ जाएगा। मानव जीवन केवल 20 वर्ष तक ही सिमट कर रह जाएगा। कलयुग में कुछ ही समय में लोगों के बाल सफेद हो जाएंगे। पुराणों में कहा गया है कि कलयुग में चालाक और लालची व्यक्ति को विद्वान माना जाएगा। कोई भी शास्त्रों और वेदों का पालन नहीं करेगा। धार्मिक नेता लोगों को अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करेंगे।

श्रीवेद व्यास जी के अनुसार कलयुग सभी युगों में श्रेष्ठ है विष्णु पुराण में वर्णित एक घटना के अनुसार वेद व्यास जी ऋषि-मुनियों से चर्चा करते हुए कहते हैं कि कलयुग सभी युगों में सर्वश्रेष्ठ युग है। क्योंकि दस साल के उपवास और तपस्या से सतयुग में जितना पुण्य प्राप्त होता है, त्रेता युग में उतना ही पुण्य एक वर्ष की तपस्या से प्राप्त होता है। वैसे ही द्वापर युग में एक महीने की तपस्या से उतनी ही पुण्य की प्राप्ति हो सकती है, लेकिन कलयुग में इतना बड़ा पुण्य केवल एक दिन की तपस्या से ही प्राप्त किया जा सकता है। इस प्रकार उपवास और तपस्या का फल पाने के लिए कलयुग सबसे अच्छा समय है।

इसे भी पढ़ें..  लक्ष्मण सुनील लहरी ने खोली बॉलीवुड की पोल, हीरोइन की उम्र ज्यादा हो तो हीरो को करना पड़ता था यह काम

हिंदू धर्म के पतन का एक मुख्य कारण यह है कि वह सब कुछ किया जा रहा है जिसका उल्लेख वेदों में नहीं है। हिंदुओं का एकमात्र ग्रंथ वेद हैं। वेदों का सार उपनिषद है और उपनिषदों का सार गीता है। गीता इतिहास की किताब महाभारत का एक हिस्सा है। रामायण, पुराण और स्मृतियाँ भी इतिहास और व्यवस्था से संबंधित पुस्तकें हैं, शास्त्र नहीं।

कलयुग के अंत में भगवान विष्णु अवतार लेंगे। वह सफेद घोड़े पर सवार होकर राक्षसों का नाश करेगा। पौराणिक कथाओं के अनुसार कलयुग 432,000 वर्ष पुराना है, जिसका प्रथम चरण अभी चल रहा है। कलियुग 3102 ईसा पूर्व में शुरू हुआ, जब पांच ग्रह; मेष राशि में मंगल, बुध, शुक्र, बृहस्पति और शनि 0 अंश पर थे।

कल्कि पुराण के अनुसार कलयुग में भगवान विष्णु कल्कि के रूप में अवतरित होंगे। कल्कि का अवतार कलयुग और सतयुग के संगम पर होगा। इस अवतार में 64 कलाएं शामिल होंगी। पुराणों के अनुसार भगवान कल्कि उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के शम्भल नामक स्थान पर विष्णुयशा नामक तपस्वी ब्राह्मण के घर पुत्र के रूप में जन्म लेंगे। देवदत्त नाम के घोड़े पर सवार कल्कि संसार से पापियों का नाश कर धर्म की पुनर्स्थापना करेंगे।

इसे भी पढ़ें..  लक्ष्मण सुनील लहरी ने खोली बॉलीवुड की पोल, हीरोइन की उम्र ज्यादा हो तो हीरो को करना पड़ता था यह काम
बेहद ग्लैमरस है Twinkle Khanna की भांजी Naomika Saran Shilpa shetty का देसी लुक में फोटोशूट harnaaz kaur sandhu ने बोल्ड फोटोशूट करवाया Namrata Malla ये भोजपुरी एक्ट्रेस के वीडियो देख छूट जायेंगे पसीने। Tamannaah Bhatia एथनिक लुक्स में भी कमाल लगती है।
बेहद ग्लैमरस है Twinkle Khanna की भांजी Naomika Saran Shilpa shetty का देसी लुक में फोटोशूट harnaaz kaur sandhu ने बोल्ड फोटोशूट करवाया Namrata Malla ये भोजपुरी एक्ट्रेस के वीडियो देख छूट जायेंगे पसीने। Tamannaah Bhatia एथनिक लुक्स में भी कमाल लगती है।