Advertisement
Categories: देश

3-4 महीने में आ जाएगी कोरोना वैक्सीन, बच्चों को बाद में मिलने की उम्मीद: पूनावाला

सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने यह बात कही है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली. भारतीय बच्चों को कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) उपलब्ध होने के बावजूद थोड़ा लंबा इंतजार करना पड़ सकता है. सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया  (Serum Institute of India)  के सीईओ अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा है कि वैक्सीन आने में करीब चार महीने का वक्त लग सकता है. साथ ही उन्होंने बताया कि संभव है बच्चों को वैक्सीन सबसे आखिरी में दी जाए क्योंकि उन्हें इससे कम खतरा माना जा रहा है.

अप्रैल 2021 से सभी के लिए उपलब्ध हो सकती कोरोना वैक्सीन
उन्होंने कहा कि 2021 के फरवरी महीने तक वैक्सीन आ जाने की संभावना है. सबसे पहले हेल्थ वर्कर्स और उम्रदराज लोगों को यह वैक्सीन दी जाएगी. अप्रैल महीने से यह वैक्सीन आम लोगों के लिए उपलब्ध हो सकती है. पूनावाला ने वैक्सीन के मूल्य को लेकर कहा कि इसका अधिकतम मूल्य 1000 रुपए तक हो सकता है. उन्होंने कहा कि वैक्सीन का मूल्य आम लोगों की पहुंच के भीतर रखा जाएगा.

250 मिलियन डॉलर का किया है निवेशगौरतलब है पूनावाला ने वैक्सीन निर्माण के लिए करीब 250 मिलियन डॉलर का निवेश कर रखा है. इस पर उन्होंने कहा-मेरे पास नैतिक तौर पर कोई दूसरा विकल्प मौजूद नहीं था. मैंने महसूस किया कि ये मेरी जिम्मेदारी है. अगर मैंने यह निर्णय नहीं लिया होता तो शायद हम लोग 6 महीने पीछे छूट जाते.

स्टॉक कर चुकी है 4 करोड़ वैक्सीन डोज
इससे पहले खबर आई थी कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) और फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका द्वारा वैक्सीन की खुराक तैयार करने वाली सीरम इंस्टीट्यूट ने करीब 4 करोड़ खुराक बना ली है. हालांकि अभी तक यह नहीं बताया गया कि वैक्सीन की इन खुराकों का इस्तेमाल कहां होगा. इस सवाल पर भी कोई जानकारी नहीं दी गई कि इसका इस्तेमाल सिर्फ भारत के लिए होगा या फिर यह दुनिया भर में आपूर्ति की जाएगी. सीरम इंस्टीट्यूट ने DCGI से वैक्सीन को स्टॉक करने मंजूरी मिलने के बाद कोरोना वायरस वैक्सीन के 4 करोड़ डोज का उत्पादन कर लिया है.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.