Advertisement

150 किमी./घंटे की रफ्तार से गेंद फेंकने वाला भारतीय पहुंचा सिडनी, पुजारा ने भी किया अभ्यास

India vs Australia 2020: चेतेश्वर पुजारा ने की जमकर प्रैक्टिस (Pujara Instagram)

नई दिल्ली. एक वक्त था जब टीम इंडिया के बल्लेबाज रफ्तार के आगे विचलित नजर आते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है. अब भारत के पास विराट कोहली, रोहित शर्मा, केएल राहुल जैसे बल्लेबाज हैं जिन्हें तेज रफ्तार से बिलकुल फर्क नहीं पड़ता, बल्कि वो तेज गेंदों पर लंबे-लंबे छक्के लगाते हैं. टीम इंडिया के बल्लेबाजों को तेज रफ्तार गेंदबाजों का सामना करने के लिए एक खास शख्स ट्रेनिंग देता है जिनका राम है रघु. रघु टीम इंडिया के थ्रोडाउन स्पेशलिस्ट हैं और वो अब ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टीम इंडिया की मदद करने वाले हैं. भारत के थ्रोडाउन विशेषज्ञ रघु सिडनी पहुंच गये हैं और टीम से जुड़ने से पहले पृथकवास में हैं। वह कोविड-19 पॉजिटिव आने के बाद टीम के अन्य सहयोगी स्टाफ के साथ रवाना नहीं हो सके थे. बीसीसीआई के एक सूत्र ने कहा, ‘उन्हें स्थानीय सरकारी दिशानिर्देशों के अनुसार 14 दिन के पृथकवास से गुजरना होग. इसके बाद वह टीम से जुड़ जायेंगे.’

पुजारा ने किया जमकर अभ्यास
रघु ने ऑस्ट्रेलिया में कदम रख दिया है और इस बीच भारतीय टीम भी जमकर ट्रेनिंग में जुटी हुई है. मार्च के बाद से प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेलने वाले चेतेश्वर पुजारा ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ अगले महीने होने वाली टेस्ट श्रृंखला की तैयारियों के लिये गुरूवार को सिडनी में नेट सत्र में काफी कड़ा अभ्यास किया जिसमें वह तेज गेंदबाजों के सामने सहज दिखायी दिये. पुजारा ने ‘साइड नेट’ और ‘सेंटर स्ट्रिप’ दोनों पर बल्लेबाजी की जिसमें उन्होंने नेट गेंदबाज ईशान पोरेल और कार्तिक त्यागी के अलावा उमेश यादव और रविचंद्रन अश्विन की गेंदों का सामना किया.

चेतेश्वर पुजारा से है टीम इंडिया को आस
बीसीसीआई ने सोशल मीडिया पर पुजारा के नेट सत्र की छोटा सा वीडियो भी साझा किया. भारतीय टीम को अपने 14 दिन के पृथकवास के दौरान ट्रेनिंग की अनुमति दी गयी है, जो पिछले हफ्ते ही यहां पहुंची. वनडे और टी20 श्रृंखला 27 नवंबर से शुरू होगी जिसके बाद चार मैचों की टेस्ट श्रृखंला खेली जायेगी जो एडिलेड में 17 दिसंबर से दिन रात्रि मुकाबले से शुरू होगी. भारतीय टीम के ज्यादातर खिलाड़ी इंडियन प्रीमियर लीग में खेले थे, पर टेस्ट टीम के नियमित खिलाड़ी पुजारा और हनुमा विहारी आस्ट्रेलिया पहुंचने से पहले संयुक्त अरब अमीरात में राष्ट्रीय टीम बबल से जुड़ गये थे.

पुजारा दो साल पहले आस्ट्रेलिया में भारत की ऐतिहासिक जीत में काफी अहम रहे थे और तीसरे नंबर पर उनकी भूमिका काफी महत्वपूर्ण रहेगी, खासकर विराट कोहली के पहले टेस्ट के बाद अपने पहले बच्चे के जन्म के लिये स्वदेश लौटने के बाद. पुजारा ने अपना अंतिम मुकाबला रणजी ट्रॉफी फाइनल खेला था. बता दें पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चेतेश्वर पुजारा ने सबसे ज्यादा 521 रन ठोके थे जिसमें उनके बल्ले से 3 शतक निकले थे. इस बार भी पुजारा से टीम इंडिया को ऐसे ही प्रदर्शन की उम्मीद होगी. (भाषा के इनपुट के साथ)


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.