Advertisement
Categories: देश

शेयर बाजारों में कोरोना के नए स्‍ट्रेन की खबर से हुआ Free Fall, सेंसेक्‍स-निफ्टी 3 फीसदी गिरकर हुए बंद

नई दिल्‍ली. ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्‍ट्रेन (New Strain of Coronavirus) से मचे हड़कंप की खबरों का भारतीय शेयर बाजारों (Indian Stock Markets) पर काफी बुरा असर देखने को मिला. इंडियन स्‍टॉक मार्केट्स आज सुबह गिरकर खुले. दिनभर की तेज उठापटक के बाद दोपहर के सत्र में 2.30 बजे के बाद इसमें कुछ रिकवरी हुई और अंत में बॉम्‍बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (BSE) का संवेदी सूचकांक सेंसेक्‍स (Sensex) 1406.73 अंक यानी 3 फीसदी की गिरावट के साथ 45,553.96 अंक पर बंद हुआ. वहीं, नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज (NSE) का निफ्टी (Nifty) भी 432.15 अंक यानी 3.14 फीसदी गिरकर 13,328.40 अंक पर बंद हुआ. इससे पहले एक समय शेयर बाजारों में मुनाफावसूली (Profit Booking) का इतना दबाव बढ़ गया कि सेंसेक्‍स में 2000 अंक से ज्‍यादा गिरकर 44,923 अंक पर पहुंच गया था, जबकि निफ्टी करीब 500 अंक टूटकर 13,131.45 पर पहुंच गया था.

एक समय 47000 के सर्वोच्‍च स्‍तर को पार कर गया सेंसेक्‍स
अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर मिलेजुले संकेतों के बीच सप्‍ताह के पहले कारोबारी दिन यानी सोमवार सुबह 09:25 पर भारतीय बाजारों ने कमजोर शुरुआत की. सेंसेक्स 180 अंक यानी 0.38 फीसदी की कमजोरी के साथ 46,780 के आसपास और निफ्टी 58 अंक यानी 0.43 फीसदी की गिरावट के साथ 13,702 के स्तर पर दिखा. इसके बाद बाजार में तेजी दिखी और सुबह करीब 10:30 बजे सेंसेक्‍स ने नया रिकॉर्ड बनाया और 47,000 के सर्वोच्‍च स्‍तर को पार किया. इस दौरान निफ्टी भी रिकॉर्ड स्‍तर पर चल रहा था. बाजार को लार्सन एंड टुब्रो, रिलायंस और इंफोसिस में तेजी का फायदा मिल रहा था.

ये भी पढ़ें- 1 जनवरी से बदल जाएंगे ये 10 नियम, देश के करोड़ों लोगों पर पड़ेगा असर!मुनाफावसूली के बीच टॉप गेनर बना रहा रिलायंस का शेयर

इसके बाद टाटा मोटर्स में तेज गिरावट हुई और इसका शेयर 2 फीसदी की गिरावट के साथ उस समय टॉप लूसर बन गया. फिर टाटा स्‍टील में भी मुनाफावसूली हावी हो गई. हालांकि, इस दौरान केजी बेसिन के R Cluster में गैस उत्पादन शुरू होने से रिलायंस (Reliance) में जमकर खरीदारी दिख रही थी. इसके शेयर 1 हफ्ते के ऊपरी स्तर पर पहुंच गए थे. उठापटक का दौर चलता रहता और एलएंडटी में फिर तेजी दिखी और इसने फरवरी 2020 के बाद का सबसे ऊंचा स्‍तर छूते हुए करीब 3.5 फीसदी की बढ़त दर्ज की. इसके बाद 1.15 बजे के आसपास ऊपरी स्तरों पर ICICI Bank, HDFC से दबाव बना. निफ्टी बैंक, मिडकैप इंडेक्स की पिटाई शुरू हो गई.

ये भी पढ़ें- Tesla का शेयर इस साल दे चुका है 700% से ज्‍यादा रिटर्न, आज से S&P 500 में हो रही शामिल, जानें कैसे निवेश कर सकते हैं भारतीय

ऐसे गहराती चली गई मुनाफावसूली और गिरे शेयर बाजार
बाजार में अगले आधे घंटे में गिरावट गहरा गई. निफ्टी बैंक में जबरदस्‍त बिकवाली होने लगी और ये 500 अंक टूट गया. प्राइवेट बैंकों की भी जोरदार पिटाई शुरू हो गई. यही नहीं, मिडकैप शेयर भी फिसलने लगे. मिडकैप में ऑटो, मेटल शेयरों में मुनाफावसूली तेज हो गई. हालांकि, मिडकैप आईटी और फार्मा शेयरों में खरीदारी जारी रही. बता दें कि इससे पहले लगातार 6 दिन तक शेयर बाजारों ने रिकॉर्ड ऊंचाई छूई थी. इसके बाद बाजार टूटता चला गया और बैंक निफ्टी 600 अंक से ज्यादा फिसल गया. इसमें ICICI BANK, HDFC TWINS और AXIS BANK सबसे ज्यादा दबाव में दिखे.

ये भी पढ़ें- रोजगार के हालात में सुधार! अक्‍टूबर 2020 में 56 फीसदी बढ़े नए EPFO सब्‍सक्राइबर

बीएसई का मार्केट कैपिटलाइजेशन 70 खरब रुपये घटा
एलएंडटी में एकबार फिर गिरावट हुई और दोपहर 2 बजे के बाद इसके शेयर ऊपरी स्तरों से 6 फीसदी तक नीचे आ गए. दोपहर 2.15 से लेकर 2.45 तक बाजार में गिरावट बढ़ गई. बाजार दिन के निचले स्तर पर पहुंच गया. बैंक निफ्टी के सभी 12 शेयरों में गिरावट दर्ज हुई. बीएसई के सभी सेक्टर इंडेक्स में गिरावट नजर आई. सेंसेक्स के 30 स्टॉक्स लाल निशान में ट्रेड कर रहे थे. सरकारी तेल कंपनी ONGC में करीब 8.8 फीसदी की गिरावट देखने को मिली. इसके अलावा इंडसइंड बैंक, एसबीआई, एनटीपीसी, आईटीसी, ICICI Bank, सन फार्मा, टीसीएस सभी स्टॉक्स बड़ी गिरावट के साथ ट्रेड कर रहे हैं. बीएसई के मार्केट कैपिटलाइजेशन में आज 70 खरब रुपये से ज्‍यादा का नुकसान हुआ.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.