Advertisement
Categories: देश

रिटायर्ड एयर फोर्स अफसर ने बताया दुश्मन पर Air strike करने ऐसे जाते हैं 3 लड़ाकू विमान

सूत्रों की मानें तो भारतीय वायु सेना ने पीओके में आतंकवादियों के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की है.

नई दिल्ली. हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical strike) ज़मीन से हमला कर की जाती है, और एयर स्ट्राइक (Air strike) लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल कर. लेकिन एयर स्ट्राइक करने का भी एक तरीका है. सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि एक बार फिर भारत वायु सेना (Indian Air Force) ने पीओके में बने आतंकियों (Terrorist) के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक कर दी है. कैसे होती है एयर स्ट्राइक और किस तरह से दुश्मन के इलाके में घुसकर इसे अंजाम दिया जाता है. इस बारे में एयर फोर्स के रिटायर्ड अफसर ने इसकी रणनीति के बारे में बताया.

आसमान में जाकर एक खास फॉर्मेशन बनाते है लड़ाकू विमान

ग्रुप कैप्टन रिटायर्ड टीके सिंह ने न्यूज18 हिंदी को बताया, “एयर स्ट्राइक के दौरान दुश्मन के एक ठिकाने पर हमला करने के लिए कम से कम तीन फाइटर एयरक्राफ्ट जाते हैं. एक के बाद एक तीन फाइटर एयरक्राफ्ट एयर बेस से उड़ान भरते हैं. आसमान में जाकर एक फॉर्मेशन बनाते हैं. इस फॉर्मेशन के तहत दुश्मन के ठिकाने पर हमला करने वाला विमान बीच में होता है. उसके ऊपर एक दूसरा विमान होता है. तीसरा विमान उसके बराबर में चलता है. बीच वाला विमान पूरा फोकस दुश्मन के ठिकाने और अपने टॉरगेट पर करता है. जबकि बाकी के दो विमान उसे सुरक्षा देते हैं. ऊपर और बराबर में चलते हुए दुश्मन पर निगाह रखते हैं.

ये भी पढ़ें- बड़ी खबर: दिल्ली में मास्क नहीं पहनने पर लगेगा 500 की जगह 2 हजार रुपये जुर्माना, आदेश जारीअगर एयर स्ट्राइक के दौरान सामने से दुश्मन का विमान आ जाता है तो दो विमान जो ऊपर और बराबर में उड़ रहे हैं उनका काम होता कि दुश्मन के हमले से ऑपरेशन को अंजाम देने जा रहे अपने साथ विमान के पायलट की रक्षा करें. जिससे दुश्मन उसे ठिकाने पर हमला करने से न रोक पाए. खास बात ये होती है कि जो साथ वाले दो विमान होते हैं वो भी हर तरह के हथियारों से लैस रहते हैं. जब तक एयर स्ट्राइक में शामिल मुख्य विमान हमले को अंजाम नहीं दे देता है साथ दो विमान उसके आसपास ही मडराते रहते हैं.”


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.