Advertisement
Categories: देश

मंदिर विवाद पर शिवसेना ने राज्‍यपाल कोश्‍यारी पर साधा निशाना, कहा- संवैधानिक पद पर बैठे व्‍यक्ति को… | mumbai – News in Hindi

राज्‍यपाल ने लिखी थी मुख्‍यमंत्री को चिट्ठी.

नई दिल्‍ली. महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में मंदिर खोलने के मुद्दे पर शिवसेना (Shiv sena) और राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी (Bhagat singh Koshyari) के बीच विवाद बढ़ता जा रहा है. मंदिर खोलने के संबंध में राज्‍यपाल कोश्‍यारी की ओर से मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखी गई चिट्ठी के बाद शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिये कोश्‍यारी पर निशाना साधा है. सामना में लिखा गया है, ‘बीजेपी का पेट दुख रहा है इसलिए संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति को भी प्रसव पीड़ा हो, ये गंभीर है.’

शिवसेना ने सामना में लिखा है, ‘महाराष्‍ट्र में बार और रेस्टॉरेंट खुल गएहैं. लेकिन प्रार्थना स्थल क्यों बंद हैं? आपको मंदिरों को बंद रखने के लिए कोई दैवीय संकेत मिल रहा है क्या? या आप अचानक सेक्युलर हो गए हैं? ऐसा सवाल राज्यपाल ने पूछा था. इस पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल की धोती ही पकड़ ली और उनके राजभवन को हिलाकर रख दिया.’

शिवसेना ने कहा है, ‘महाराष्‍ट्र के मंदिर खोलने के लिए बीजेपी ने आंदोलन शुरू किया. उस में राज्यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी को शामिल होने की आवश्यकता नहीं थी. राज्यपाल पद पर बैठा बुजुर्ग व्यक्ति अपनी मर्यादा लांघकर व्यवहार करे तो क्या होता है. इसका सबक देश के सभी राज्यपालों ने ले लिया होगा.’

मुखपत्र सामना में शिवसेना ने कहा, ‘अगर बीजेपी को प्रार्थना स्थल खुलवाने होंगे तो उसे दिल्ली जाकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से मुलाकात करनी चाहिए. इस मुद्दे पर देश में एक राष्ट्रीय नीति निर्धारित होनी चाहिए. शिवसेना ने कहा, ‘मामले में राज्यपाल ने आ बैल मुझे मार जैसा बर्ताव किया, लेकिन यहां बैल नहीं, बल्कि शेर है. इस बात को वे कैसे भूल गए?

बता दें कि राज्य में धार्मिक स्थलों को खोलने को लेकर राज्यपाल कोश्यारी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को जो चिट्ठी लिखी, उसके बाद नया विवाद शुरू हो गया है. दरअसल, बीजेपी महाराष्‍ट्र में मंदिर खोलने के लिए आंदोलन कर रही है. राज्यपाल ने अपनी चिट्ठी में मुख्यमंत्री के हिंदुत्व पर सवाल उठाते हुए पूछा था कि ‘क्या आप अचानक से सेक्युलर हो गए?’ राज्यपाल की ऐसी भाषा पर शिवसेना और कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है. शिवसेना राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को इस मामले में चिट्ठी लिखकर उनसे राज्यपाल कोश्यारी को हटाने की गुजारिश कर सकती है.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.