Advertisement
Categories: देश

भारत में कब और कितने रुपये में मिलेगी कोराना की वैक्सीन, यहां जानें

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदर पूनावाला का कहना है कि इस वैक्सीन की कीमत भारत में ज्यादा से ज्यादा 1000 रुपये होगी.

नई दिल्ली. दुनिया भर में इन दिनों कोरोना वायरस (Coronavirus) से कोहराम मचा है. हर दिन लाखों की संख्या में नए मरीज़ सामने आ रहे है. जबकि हज़ारों की मौत हो रही है. दुनिया के कई हिस्सों में वायरस दोबारा आक्रमण कर रहा है. ऐसे में हर किसी की निगाहें कोरोना की वैक्सीन (Coprona Vaccine) पर टिकी हैं. अमेरिकी में ये वक्सीन तैयार हो गई है और कहा जा रहा है कि दिसंबर में  लगने शुरू हो जाएंगे. इस बीच भारत में भी वैक्सीन का लोगों को बेसब्री से इंतज़ार है. आईए एक नज़र डालते हैं कि भारत में इस वैक्सीन की क्या कीमत होगी और ये बाज़ार में कब दस्तक देगी.

कब आएगी वैक्सीन?
सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला का कहना है कि ये वैक्सीन फरवरी तक बाज़ार में आ जाएगी. बता दें कि सीरम इंस्टिट्यूट ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन का एस्ट्रेजेनिका के साथ मिलकर भारत में ट्रायल कर रही है. एक कार्यक्रम में पूनावाला ने कहा कि 2021 की पहली तिमाही में वैक्सीन की करीब 30 से 40 करोड़ खुराक उपलब्ध हो जाएगी. उन्होंने ये भी कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों और बुजुर्गों के लिए ऑक्सफोर्ड कोविड-19 का टीका अगले साल फरवरी तक और आम लोगों के लिए अप्रैल तक उपलब्ध होना चाहिए. पूनावाला ने भी कहा कि 2024 तक हर भारतीय को टीका लग चुका होगा.

वैक्सीन की क्या होगी कीमत?सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदर पूनावाला का कहना है कि इस वैक्सीन की कीमत भारत में ज्यादा से ज्यादा 1000 रुपये होगी. उनके मुताबिक वैक्सीन की दो डोज लगेगी. हर डोज की कीमत 500 रुपये से 600 रुपये के बीच होगी. जबकि सरकार की तरफ से ये दोनों डोज आम लोगों को करीब 440 रुपये में उपलब्ध करायी जाएगी. उन्होंने कहा कि सरकार को हर डोज 3 से 4 डॉलर में दी जाएगी. फिलहाल सरकार की तरफ से इसका कोई अधिकारिक ऐलान नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ें:- शिवपाल यादव का ऐलान, कहा- 2022 में BJP को हराने के लिए सपा से करेंगे गठबंधन!

कब तक सबको लग जाएंगे टीके?
पूनावाला ने कहा,‘भारत में हर व्यक्ति को टीका लगने में दो या तीन साल लग जाएंगे,ये केवल सप्लाई में कमी के कारण नहीं बल्कि इसलिए भी क्योंकि आपको बजट, टीका ,साजो सामान, बुनियादी ढांचे की जरूरत है और फिर टीका लगवाने के लिए लोगों को राजी होना चाहिए और ये वे फैक्टर्स हैं जो पूरी आबादी के 80-90 प्रतिशत लोगों को टीकाकरण के लिए जरूरी है.

वैक्सीन की एडवांस बुकिंग
कई कंपनियों ने ट्रायल में अच्छे परिणाम को देखते हुए बड़े पैमाने पर वैक्सीन का उत्पादन शुरू हो गया है. लिहाजा बड़े देशों के बीच इनकी खरीद और सौदों को लेकर होड़ मच गई है. ऐसे में भारत ने भी 150 करोड़ से अधिक डोज खरीदने के लिए एडवांस बुकिंग करा दी है. वॉल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कोविड-19 वैक्सीन डोज खरीदने के मामले में भारत तीसरे नंबर पर है.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.