Advertisement
Categories: देश

भारत-चीन के बीच जल्‍द होगी एक और दौर की बैठक

भारत-चीन के बीच जल्द एक और दौर की बैठक होगी. (फोटो साभार-AP)

नई दिल्‍ली. पूर्वी लद्दाख में एलएसी (LAC) पर भारत और चीन (India and China) के बीच महीनों से जारी तनाव के बीच एक और दौर की बैठक होगी. भारत ने गुरुवार को कहा कि वह सीमा गतिरोध पर चीन के साथ सैन्‍य और राजनयिक माध्‍यमों से बातचीत जारी रखेगा. भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा क‍ि दोनों पक्ष जल्‍द ही वार्ता का एक और दौर आयोजित करने पर सहमत हुए हैं. इस बैठक में डिस-एंगेजमेंट और शांति को बहाल करने पर बातचीत हो सकती है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने दोनों देशों की बीच जारी सैन्य वार्ताओं का जिक्र करते हुए ब्रिटिश समाचर पत्र ‘द टाइम्स’ की उस खबर को ‘निराधार’ बताकर खारिज कर दिया. जिसमें चीन के एक प्रोफेसर के हवाले से दावा किया गया था कि चीन की सेना ने पूर्वी लद्दाख में भारतीय सैनिकों को मोर्चे से पीछे हटने को मजबूर करने के लिये ‘माइक्रोवेव हथियारों’ का इस्तेमाल किया था.

प्रवक्ता ने कहा कि सैन्य वार्ताओं का उद्देश्य पूरी तरह से पीछे हटना और पश्चिमी सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति और स्थिरता सुनिश्चित करना करना है. श्रीवास्तव ने ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में छह नवंबर को चुशुल में भारत और चीन के वरिष्ठ सैन्य कमांडरों के बीच हुई आठवें दौर की बातचीत का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, ‘ये वार्ताएं स्पष्ट, गहन और रचनात्मक रहीं और दोनों पक्षों ने भारत-चीन सीमा के पश्चिमी क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गतिरोध वाले सभी बिंदुओं से पीछे हटने के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा की.’

ये भी पढ़ें: रिटायर्ड एयर फोर्स अफसर ने बताया दुश्मन पर Air strike करने ऐसे जाते हैं 3 लड़ाकू विमान

ये भी पढ़ें: नगरोटा एनकाउंटर पर बोले आर्मी चीफ- सीमा पार करने वाले बचेंगे नहींप्रवक्ता ने कहा, ‘सैन्य वार्ताओं का उद्देश्य पूरी तरह से पीछे हटना और पश्चिमी सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति और स्थिरता सुनिश्चित करना है. हम सैन्य और राजनयिक माध्यमों से वार्ता जारी रखेंगे. दोनों देशों ने इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये जल्द ही बातचीत का एक और दौर शुरू करने पर सहमति जतायी है.’

सर्दी की शुरुआत के साथ ही भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में तैनात सैनिकों के लिए आवास की व्यवस्था की
पूर्वी लद्दाख में भारतीय और चीनी सेना के बीच जारी गतिरोध के निकट भविष्य में समाप्त होने के आसार नजर नहीं आने की पृष्ठभूमि में भारतीय सेना ने कड़ाके की सर्दी और ऊंचाई वाली सीमा पर तैनात अपने सैनिकों के लिए अत्याधुनिक आवासीय सुविधा की व्यवस्था की है ताकि उनकी अभियान क्षमता पर कोई प्रतिकूल प्रभाव ना हो. सरकारी सूत्रों ने बुधवार को बताया कि चूंकि सर्दी के महीनों में यहां तापमान शून्य से 40 डिग्री नीचे चला जाता और नवंबर के बाद यहां करीब 40 फुट बर्फ गिरती है, ऐसे में सैनिकों के लिए बनाए गए आवासों में सभी सुविधाओं का ख्याल रखा गया है. सूत्रा ने बताया, ‘सर्दियों में तैनात सैन्य टुकड़ियों की अभियान क्षमता यथावत बनाए रखने के लिए भारतीय सेना ने सेक्टर में तैनात सभी सैनिकों के लिए आवास का प्रबंध पूरा कर लिया है.’


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.