Advertisement
Categories: देश

भारत की वो रहस्यमयी घाटी, जिसे दूसरा बरमुडा ट्राएंगल कहा जाता है

हम जिक्र कर रहे हैं शांगरी ला घाटी का. ये तिब्बत और अरुणाचल की सीमा पर है. तंत्र मंत्र के कई जाने माने साधकों ने अपनी किताबों में इसका जिक्र किया है. जिसमें सबसे प्रमुख हैं पद्म विभूषण और साहित्य अकादमी से नवाजे गए और गर्वनमेंट संस्कृत कॉलेज के प्राचार्य रहे डॉ. गोपीनाथ कविराज. उन्होंने अपनी किताब में इस जगह का जिक्र किया है. तिब्बती साधक भी इसके बारे में कहते रहे हैं. इस घाटी को उस बरमूडा ट्राएंगल की तरह ही दुनिया की सबसे रहस्यपूर्ण जगह माना जाता है. कहा जाता है कि भू-हीनता का प्रभाव रहता है. ये भी कहा जाता है कि इस घाटी का सीधा संबंध दूसरे लोक से है.

जाने माने तंत्र साहित्य लेखक और विद्वान अरुण कुमार शर्मा ने भी अपनी किताब तिब्बत की वह रहस्यमय घाटी में इस जगह का विस्तार से जिक्र किया है. बकौल उनके दुनिया में कुछ ऐसी जगहें हैं जो भू-हीनता और वायु-शून्यता वाली हैं, ये जगहें वायुमंडल के चौथे आयाम से प्रभावित होती हैं. माना जाता है इन जगहों पर जाकर वस्तु या व्यक्ति का अस्तित्व दुनिया से गायब हो जाता है. ऐसी ही जगहों के रूप में इस शांगरी ला घाटी का भी नाम आता है.

ये भी पढ़ें: क्या चंद्रमा से China अपने साथ एलियन वायरस लेकर आया है?

शांगरी ला घाटी को बरमूडा ट्राएंगल की तरह बताया जाता है. बरमूडा ट्राएंगल ऐसी जगह है, जहां से गुजरने वाले पानी के जहाज और हवाई जहाज़ गायब हो जाते हैं. वह स्थान भी भू हीनता के क्षेत्र में आता है. कहा जाता है कि चीन की सेना ने कई बार इस जगह को तलाशने की भी कोशिश की लेकिन उसको कुछ नहीं मिला. तिब्बती विद्वान युत्सुंग के अनुसार इस घाटी का संबंध अंतरिक्ष के किसी लोक से है.

इस जगह को पृथ्वी का आध्यात्मिक नियंत्रण केंद्र भी कहा जाता है- सांकेतिक फोटो (pxhere)

तिब्बती भाषा की किताब काल विज्ञान में इस घाटी का जिक्र मिलता है. जिसमें लिखा है कि दुनिया की हर चीज़ देश, काल और निमित्त से बंधी है लेकिन इस घाटी में घाटी में काल यानी समय का असर नहीं है. वहां प्राण, मन के विचार की शक्ति, शारीरिक क्षमता और मानसिक चेतना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है. इस जगह को पृथ्वी का आध्यात्मिक नियंत्रण केंद्र भी कहा जाता है.

ये भी पढ़ें: किस तरह रेगिस्तानी देश कोहरे से बना रहे हैं पानी? 

आध्यात्म क्षेत्र, तंत्र साधना या तंत्र ज्ञान से जुड़े लोगों के लिए यह घाटी भारत के साथ-साथ विश्व में मशहूर है. युत्सुंग खुद के वहां जाने का दावा करते हैं. बकौल उनके वहां ना सूर्य का प्रकाश था और ना ही चांद की चांदनी. वातावरण में चारों ओर एक दुधिया प्रकाश फैला हुआ था और साथ ही विचित्र सी खामोशी.

ये भी पढ़ें: Explained: क्यों महिलाओं को नौकरी पर रखने के कारण पेरिस पर लगा जुर्माना? 

युत्सुंग ने वाराणसी के तंत्र विद्वान अरुण शर्मा को बतायावहां एक ओर मठों, आश्रमों और विभिन्न आकृतियों के मंदिर थे और दूसरी ओर दूर तक फैली हुई संग्रीला का सुनसान घाटी. यहां के तीन साधना केंद्र प्रसिद्द हैं. पहला- ज्ञानगंज मठ, दूसरा- सिद्ध विज्ञान आश्रम और तीसरा- योग सिद्धाश्रम. शांगरी ला घाटी को सिद्धाश्रम भी कहते हैं. सिद्धाश्रम का वर्णन महाभारत, वाल्मिकी रामायण और वेदों में भी है. सिद्धाश्रम का जिक्र काल विज्ञान पुस्तक, अंग्रेज़ लेखक James hilton ने अपनी किताब lost Horizon में भी किया है.

कई देशी-विदेशी खोजियों ने शांगरी ला घाटी का पता लगाने की कोशिश की लेकिन सफल नहीं हुए- सांकेतिक फोटो

जेम्स हिल्टन ने अपनी पुस्तक लास्ट होराइजन में इस रहस्यमय घाटी के बारे में कहा, वहां लोग सैकड़ों बरसों तक जीवित रहते हैं. उनकी पुस्तक को पढ़कर कई देशी-विदेशी खोजियों ने शांगरी ला घाटी का पता लगाने की कोशिश की लेकिन सफल नहीं हुए. कुछ तो हमेशा के लिए गायब ही हो गए. माना जाता है कि चीन की सेना एक लामा का पीछा करते हुए इस घाटी तक आई लेकिन शांगरी ला का पता नहीं लगा सकी.

ये भी पढ़ें: Explained: क्या है रूस का S-400 सिस्टम, जिसे लेकर अमेरिका तुर्की पर भड़का? 

अब थोड़ा बरमुडा ट्राएंगल के बारे में भी जानते चलें. बरमूडा एक ब्रिटिश उपनिवेश है, इसके आसपास के इलाकों में सैकड़ों जहाज डूबे माने जाते हैं. ये नार्थ अटलांटिक महासागर का वो हिस्सा है, जिसमें ढेरों रहस्य भरे पड़े हैं. यहां जाने वाले जहाजों के अलावा इसकी सीमा में जाने वाले हवाई जहाज भी एकाएक गायब हो जाते हैं. बीच-बीच में वैज्ञानिक कहते हैं कि वे इसका रहस्य खोलने तक पहुंच गए हैं लेकिन अब तक कोई भी ऐसा दावा नहीं कर सका.


Source link

Leave a Comment

Recent Posts

Advertisement

This website uses cookies.