Advertisement
Categories: देश

ताइवान की राष्ट्रपति ने दिखाया भारत प्रेम, कहा- इंडियन खाना और चाय है बेहद पसंद | south-asia – News in Hindi

ताइवान की राष्‍ट्रपति त्‍साई इंग वेन (फोटो सौ. रॉयटर्स)

ताइपे. भारत-ताइवान के लोगों में गहराती दोस्‍ती के बीच ताइवान की राष्‍ट्रपति त्‍साई इंग वेन (Tsai Ing-Wen) का भारतीय संस्‍कृति के प्रति जबर्दस्‍त प्रेम एक बार फिर से झलक आया है. ताइवान की राष्‍ट्रपति ने गुरुवार को ट्वीट (Tweet) करके कहा कि भारतीय खाना और चाय बहुत पसंद है. वेन ने कहा कि वह अक्‍सर चना मसाला और नान खाने के भारतीय रेस्‍त्रां में जाती रहती हैं. ताइवान की राष्‍ट्रपति त्‍साई ने ट्वीट करके कहा, ‘ताइवान भाग्‍यशाली है कि यहां पर कई भारतीय रेस्‍त्रां हैं और ताइवान की जनता उन्‍हें प्‍यार करती है. मैं खुद हमेशा चना मसाला और नान खाने के लिए जाती हूं जबकि चाय मुझे हमेशा मेरी भारत यात्रा के दिनों और जीवंत, विविध और रंगों से भरे देश की याद दिलाती है. आपकी पसंदीदा डिश कौन सी है?’ ताइवान की राष्‍ट्रपति के इस ट्वीट को बड़ी संख्‍या में लोग लाइक और र‍िट्वीट कर रहे हैं.

बता दें कि चीन से जारी तनाव के बीच भारतीय जनमानस जमकर ताइवान का समर्थन करता दिखाई दे रहा है. हाल में ही ताइवान के राष्ट्रीय दिवस पर बड़ी संख्या में भारतीयों ने शुभकामना संदेश भेजे थे. इसके जवाब में ताइवान की राष्ट्रपति त्साई इन वेंग ने भारतीय लोगों का धन्यवाद दिया था. उन्होंने भारत के लोग, भारतीय संस्कृति और भारतीय स्थापत्य कला की जमकर तारीफ की थी.

त्साई इन वेंग ने अपने ताजमहल दौरे की तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा कि भारत के हमारे मित्रों को नमस्कार, मुझे यहां (ट्विटर पर) फॉलो करने के लिए धन्यवाद. आपके शुभकामना संदेश मुझे आपके अविश्वसनीय देश में बिताए गए यादगार पलों की याद दिलाते हैं. आपके वास्तु चमत्कार, जीवंत संस्कृति और दयालु लोग वास्तव में अविस्मरणीय हैं. मुझे अपना वह समय बहुत याद आता है.

ये भी पढ़ें: India-China Dispute: भारत ही नहीं, इन 21 देशों के साथ है चीन का सीमा पर विवाद, कितने देशों से लड़ेगा जंग?

ताइवान को उसके राष्ट्रीय दिवस पर भारत से भेजे गए शुभकामना संदेशों के जवाब में ताइवानी राष्ट्रपति ने भारतीय लोगों को शुक्रिया कहा था. उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि शुभकामना संदेश के लिए भारत के सभी लोगों का धन्यवाद. हम स्वतंत्रता और मानवाधिकारों जैसे हमारे साझा मूल्यों की रक्षा करने और हमारे लोकतांत्रिक जीवन की रक्षा करने पर गर्व कर सकते हैं. नमस्ते.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.