Advertisement
Categories: देश

तमिलनाडु में बना जायफल का अचार और MP का सजावटी सामान, अब सबकुछ आपके दरवाजे पर

इनमें तीन ऑर्गेनिक प्रोडक्ट शिकाकाई पाउडर, लाल चावल और मसाले जायफल, जायफल का अचार और दो तरह का अवल (पोहा) शामिल है.

नई दिल्ली. बीते दो महीनों में ट्राइब्‍स इंडिया (Tribes India) बड़े पैमाने पर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले प्रोडक्ट, फॉरेस्ट फ्रैश और ऑर्गेनिक प्रोडक्ट, जनजातीय कला और हैंडीक्राफ्ट (Handicraft) प्रोडक्ट को अपनी पेशकश में शामिल कर चुकी है. पिछले कुछ सप्‍ताह में शामिल किए सभी नए प्रोडक्ट ट्राइब्‍स इंडिया के 125 बिक्री केन्‍द्रों, ट्राइब्‍स इंडिया मोबाइल वैन्‍स और ट्राइब्‍स इंडिया (tribesindia.com), ई-मार्केटप्‍लेस (E Market Place) और ई टेलर्स जैसे ऑनलाइन (Online) प्लेटफार्म पर उपलब्‍ध हैं. हाल ही में ट्राइब्‍स इंडिया की ओर से 20 और प्रभावी और रोग प्रतिरोधक प्रोडक्ट को अपनी पेशकश में शामिल किया गया है.

अब आपको अपने दरवाजे पर तमिलनाडु की इरुलास और कुरुमबास जनजाति‍यों के दस प्रोडक्ट शामिल हैं. इनमें तीन ऑर्गेनिक प्रोडक्ट शिकाकाई पाउडर, लाल चावल और मसाले जायफल, जायफल का अचार और दो तरह का अवल (पोहा) शामिल है. मध्‍य प्रदेश की गोंड और कोर्कू जनजाति‍यों द्वारा तैयार दस धातु निर्मित आकर्षक डोकरा सजावटी वस्‍तुएं भी ट्राइब्‍स इंडिया के प्लेटफार्म पर मिलेंगी.

हैंडीक्राफ्ट-ऑर्गेनिक प्रोडक्ट का बड़ा बाज़ार है ई-मार्केटप्‍लेस
ट्राइफेड के प्रबंध निदेशक प्रवीर कृष्‍ण का कहना है, ‘‘भारत भर की जनजाति‍यों द्वारा तैयार इन उत्‍पादों को अपनी पेशकश में शामिल करने से बहुत सी जनजातियों के कलाकारों की बड़े बाजारों तक पहुंच बनी है. हम जनजातियों के सशक्तिकरण के लिए काम करते समय ‘गो वोकल फॉर लोकल गो ट्राइबल’ के मंत्र में विश्‍वास रखता है. आज मध्‍य प्रदेश की गोंड और कोर्कू जनजाति‍यों द्वारा तैयार दस धातु निर्मित आकर्षक डोकरा सजावटी वस्‍तुएं भी ट्राइब्‍स इंडिया के कैटलॉग में शामिल की गई हैं.गांव के चरवाहे कर रहे MNCs के मैनेजर से भी ज्यादा कमाई, जानें कैसे

यह बेहद खूबसूरत धातु निर्मित वस्‍तुएं उचित कीमत पर उपलब्‍ध हैं और यह सजावटी के साथ-साथ काम आने वाले प्रोडक्ट हैं. इनमें नंदी और हिरन की मूर्तियां, कार्डकेस, नेपकि‍न होल्‍डर और पेन स्‍टैंड शामिल हैं. ट्राइब्‍स इंडिया का ई-मार्केटप्‍लेस भारत का सबसे बड़ा हैंडीक्राफ्ट-ऑर्गेनिक प्रोडक्ट का बाजार है. जिसका उद्देश्‍य पांच लाख जनजातीय उद्यमों को राष्‍ट्रीय और अंतर्राष्‍ट्रीय बाजारों से जोड़ना, जनजातीय उत्‍पादों और हस्‍तशिल्‍प वस्‍तुओं का प्रदर्शन करना तथा दे भर के उपभोक्‍ताओं की उन तक पहुंच कायम करना है.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.