Advertisement

जब कप्तान वीरेंद्र सहवाग की बात मानने को तैयार नहीं थे कुंबले-हरभजन, सचिन ने बचाई वीरू की जान

वीरेंद्र सहवाग ने बताया है कि कुंबले-हरभजन उनकी बात नहीं सुन रहे थे.

भारतीय टीम (Team India) की कप्तानी संभालना किसी भी खिलाड़ी के लिए आसान नहीं होता है. एक तरफ करोड़ों फैंस की नजरें कप्तान के फैसले पर टिकी हुईं होती है तो दूसरी तरफ उन्हें टीम को भी संभालना पड़ता है. भारत के पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) भी अपनी पार्ट-टाइम कप्तानी में इन मुश्किलों का सामना कर चुके हैं. पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग को चार टेस्ट मैचों में कप्तानी करने का मौका मिला है. वीरू अपनी कप्तानी में बल्लेबाजी में कुछ खास नहीं कर पाए लेकिन उन्होंने दो टेस्ट मैच जीते, एक हारा और एक ड्रॉ कराया. उन्होंने अपनी कप्तानी में पहले ही मैच में भारतीय टीम को बड़ी जीत दिलाई थी.

सहवाग ने बतौर कप्तान अपने पहले टेस्ट मैच का रोमांचक किस्सा बताया है. दिसंबर 2015 में अहमदाबाद में खेले गए श्रीलंका के खिलाफ खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में वीरू ने राहुल द्रविड़ की अनुपस्थिति में टीम की कमान संभाली थी. उन्होंने बताया है कि मैच के दौरान एक समय महान गेंदबाज अनिल कुंबले और हरभजन सिंह उनकी बात मानने को तैयार नहीं थे.

कुंबले-हरभजन गेंदबाजी से हटने को तैयार नहीं
वीयू इंडिया नाम के यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए सहवाग ने बताया कि मैच के दौरान दोनों गेंदबाज बॉलिंग से हटने के लिए तैयार नहीं थे. उन्होंने कहा, ‘अनिल भाई भी मेरी कप्तानी में खेले हैं. जरा सोचिए कि एक तरफ से अनिल कुंबले गेंदबाजी कर रहे हैं और दूसरी तरफ से हरभजन सिंह. दोनों ही गेंदबाजी से हटने को तैयार नहीं। तगड़ा मुकाबला था. अनिल भाई बोल रहे थे, उसको बोल हट जाएगा. फिर हरभजन सिंह से कहा तो वह बोले कि अनिल भाई ब्रेक ले लें.’इस मैच में पहली पारी में हरभजन सिंह ने सात और अनिल कुंबले ने दो विकेट लिया था. दूसरी पारी में कुंबले को पांच और हरभजन को तीन विकेट मिले थे. इस मैच के हीरो हरभजन सिंह रहे थे तो वहीं मैन ऑफ द सीरीज का खिताब कुंबले ने जीता था.

यह भी पढ़ें:

रोहित शर्मा-पुजारा के साथ वर्ल्ड कप खेल चुके इस भारतीय खिलाड़ी ने लिया संन्यास

दिलीप वेंगसरकर ने दी BCCI को सलाह, राहुल द्रविड़ को ऑस्ट्रेलिया भेजा जाए

सचिन ने बचाई सहवाग की जान
सहवाग ने बताया कि कुंबले-हरभजन 10-10 ओवर डाल चुके थे लेकिन दोनों खिलाड़ी ब्रेक लेने के लिए तैयार नहीं थे. उन्होंने कहा, ‘फिर मैं सचिन तेंदुलकर के पास गया और उनसे कहा कि दोनों मेरी बात नहीं सुन रहे हैं. आप किसी को बोलिए कि ब्रेक ले और मैं एक छोर से फॉस्ट बॉलर लगाना चाहता हूं. सचिन ने फिर हरभजन से बात की.’ उन्होंने कहा कि सचिन हमारी टीम के वाकई भगवान थे. उनका कहना हर प्लेयर मानता था. वीरू ने कहा कि अनिल भाई को मैं क्या बोल सकता था कि आप रूक जाओ. जब सौरव गांगुली की हिम्मत नहीं हुई तो मैं कौन था.

भारत ने 259 रनों से श्रीलंका को हराया
15 साल पहले खेले गए अहमदाबाद टेस्ट में भारतीय टीम ने श्रीलंका को 259 रनों से मात दी थी. पहले बल्लेबाजी करते भारतीय टीम ने वीवीएस लक्ष्मण की शतक की बदौलत 398 रन बनाए थे. हरभजन-कुंबले की घातक गेंदबाजी के सामने श्रीलंका की पहली पारी सिर्फ 206 रनों पर सिमट गई. इसके बाद भारत ने दूसरी पारी में 9 विकेट पर 316 रन बनाए थे. 509 रन के लक्ष्य के सामने श्रीलंकाई टीम 249 रनों पर सिमट गई थी.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.