Advertisement
Categories: देश

क्यों जापान के शाही परिवार में लगातार घटते जा रहे हैं सदस्य?

जापान की राजकुमारी माको सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय हैं. इसकी एक वजह शाही राजघराने से अलग उनका आम लोगों से जुड़ना है. उनके प्रेमी केई कोमुरो को भी तस्वीरों में अक्सर साथ देखा जाता है. दोनों लंबे समय से शादी की योजना बनाने के बाद भी उसे टाल रहे हैं. इसके पीछे वजह ये है आम नागरिक से शादी करने पर प्रिंसेज की पदवी छिन जाएगी. ऐसी घटनाएं पहले भी हो चुकी हैं और इस कायदे के कारण जापान का शादी परिवार लगातार छोटा हो रहा है.

जापान की जापानी राजकुमारी अयोको ने अपने शाही अधिकार और भारी-भरकम संपत्ति ठुकराकर एक आम शख्स से शादी कर ली. ये एक ही दशक के भीतर जापान के राजपरिवार को लगा दूसरा धक्का था. बता दें कि अयोको से पहले उनकी बड़ी बहन नोरिको ने भी साल 2014 में शाही परिवार से बाहर शादी की थी. मौजूदा राजकुमारी माको इन्हीं बहनों में सबसे छोटी हैं.

ये भी पढ़ें: जन्मदिन: जब डेट पर गए Joe Biden के पास रेस्त्रां का बिल चुकाने के पैसे नहीं थे

माको भी साल 2017 में अपनी शादी का लगभग एलान कर चुकी थीं लेकिन राजपरिवार के दबाव में उन्हें पीछे हटना पड़ा. इसके बाद माना गया था कि साल 2020 में वे फैसला लेंगी, हालांकि इस साल भी उन्होंने शादी से इनकार कर दिया. इसके पीछे ये डर बताया जा रहा है कि राजकुमारी अगर राज परिवार से बाहर किसी से जुड़ती हैं तो उन्हें शाही शानोशौकत छोड़नी होगी.

जापान की राजकुमारी माको सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय हैं (news18 English via Getty)

जापान का राजघराना अब तक के कुछ सबसे पुराने राज परिवारों में एक माना जाता है. लेकिन ये लगातार छोटा हो रहा है. राजकुमारियों के बाहरी लोगों से शादी करने के कारण अब रॉयल फैमिली में उत्तराधिकारी का संकट पैदा हो गया है. परिवार में अब 18 सदस्य बाकी हैं. इनमें से 6 राजकुमारियों ने शाही परिवार के भीतर कोई वर न मिलने के कारण शादी नहीं की. हो सकता है कि जल्द ही ये भी किसी आम जापानी नागरिक से शादी कर लें. ऐसे में जापान के राजपरिवार में केवल 12 सदस्य बाकी रहेंगे.

ये भी पढ़ें: क्या बाइडन भी ट्रंप की तरह केवल एक टर्म के राष्ट्रपति साबित होने जा रहे हैं?

असल में जापान के प्राचीन राजपरिवार में सिर्फ पुरुषों को ही राजगद्दी पर बिठाया जाता रहा है लेकिन अब परिवार छोटा होते जाने के कारण हो सकता है कि महिला वारिस पर भी विचार होने लगे. हालांकि ये भी तभी हो सकता है, जब आम लोगों से शादी करने वाली राजकुमारियों से शाही पहचान न छीनी जाए. ऐसे में वे या तो खुद गद्दी की वारिस बन सकती हैं या फिर उनके बच्चों को यह अधिकार मिल सकता है. हालांकि जापान में मजबूत पदों पर बैठे रुढ़िवादी लोग इसके खिलाफ हैं और इसी वजह से साल 2017 से इस बात पर केवल बहस ही हो रही है.

राजकुमारी अगर राज परिवार से बाहर किसी से जुड़ती हैं तो उन्हें शाही शानोशौकत छोड़नी होती है- सांकेतिक फोटो (Pixabay)

बता दें कि इंपीरियल हाउस लॉ के अनुसार अगर कोई प्रिंसेज किसी बाहरी आदमी से शादी करती है तो उससे शाही पदवी छीन ली जाती है. साथ में उसे अपना भविष्य खुद बनाने के लिए एक रकम दे दूी जाती है ताकि वो किसी किस्म की कोई उम्मीद न रखे. राजकुमारी अयोको को लगभग सवा मिलियन डॉलर दिए गए थे.

ये भी पढ़ें: किस वजह से Oxford यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट बीफ बैन की वकालत कर रहे हैं?

दूसरी तरफ जापान के राजकुमार के लिए ये नियम लागू नहीं होता. वे किसी भी लड़की से शादी कर सकते हैं और महल में आने वाली लड़की भी शाही परिवार का हिस्सा हो जाती है. इस शादी से हुई पुरुष संतान को वारिस माना जाता है. जबकि लड़की संतान को सारी शानोशौकत तो मिलती है लेकिन परिवार के उत्तराधिकारी का दर्जा नहीं.

अब हुआ ये कि साल 1965 से 2006 तक जापान के राज परिवार में एक भी लड़के का जन्म नहीं हुआ. यानी पूरे 41 साल ढेर सारी राजकुमारियां तो थीं लेकिन राजकुमार एक भी नहीं. साल 2006 में राजकुमार हिसाहितो का जन्म हुआ. इसके साथ ही राज परिवार को एक तरह से तसल्ली हुई कि उनका वारिस आ चुका है. हालांकि इसके बाद भी लगातार बात हो रही है कि क्या जापान के शाही खानदान को अब नियमों को समय के मुताबिक बदलने की जरूरत है.


Source link

Leave a Comment

Recent Posts

Advertisement

This website uses cookies.