Advertisement
Categories: देश

कांग्रेस के अंतर्द्वंद्व को खत्म करने की कोशिश में जुटा गांधी परिवार

. फाइल फोटो

नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने G-23 के नेताओं को कल मिलने के लिए बुलाया है. सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में G 23 के नेताओ के साथ-साथ कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता (Senior Leaders) भी मौजूद रहेंगे. बैठक में सोनिया गांधी के अलावा राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के भी शामिल होने की बात कही जा रही है. कांग्रेस के आंतरिक कलह को समझने से पहले उसके पृष्ठभूमि को भी समझना होगा.

लगातार दो लोकसभा चुनाव हारने और पार्टी के सिकुड़ते जनाधार को लेकर हाल ही में कांग्रेस के 23 नेताओं ने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पार्टी नेतृत्व और उसकी कार्यशैली पर सवाल उठाया था. माना जा रहा है कि जिस तरह 2019 के लोकसभा चुनाव हारने के बाद अध्यक्ष पद से राहुल गांधी ने इस्तीफा दिया और उसके बाद जिस तरह से बैक डोर से राहुल गांधी पार्टी चला रहे हैं उससे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नाराज हैं. इनमें से कई नेताओं ने सार्वजनिक रूप से भी बयान देकर पार्टी के अंदर चल रहे घमासान को पब्लिक डोमेन में ला दिया है. सोनिया गांधी द्वारा ये बैठक बुलाए जाने का मतलब साफ है कि नेतृत्व ऐसे नेताओं को नजरअंदाज नही कर सकती.

G-23 के नेता क्या चाहते हैं?
सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले G-23 के नेताओं की पहली मांग है कि पार्टी का पूर्णकालिक अध्यक्ष होना चाहिए. कोई पीछे के दरवाजे से पार्टी को न चलाए. अगर राहुल गांधी पार्टी का नेतृत्व करना चाहते हैं तो उन्हें अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी लेनी चाहिए, लेकिन अगर आने वाले दिनों में गांधी परिवार से बाहर राहुल गांधी समर्थित कोई नेता अध्यक्ष पद के लिए सामने आता है तो G23 के नेता भी चुनाव में अपना उम्मीदवार खड़ा करेंगे.G23 के नेताओं की दूसरी मांग है कि कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्यों का चुनाव होना चाहिए. मनोनयन के जरिए पद न दिया जाए ताकि आने वाले वक्त में नेताओं की जवाबदेही तय हो सके. G23 के नेताओं की ये भी मांग है कि प्रादेशिक इकाइयों में भी पद संगठनात्मक चुनाव के जरिए दिया जाए.

कल की बैठक में क्या होगी गांधी परिवार की चुनौती?
कांग्रेस का नेतृत्व कर रहे गांधी परिवार के सामने सबसे बड़ी चुनौती ये है कि संकट की इस घड़ी में नए और पुरानी पीढ़ी के नेताओं को कैसे एक साथ रखा जाए. दरअसल समस्या ये है कि अहमद पटेल के निधन के बाद गांधी परिवार और पार्टी के दूसरे नेताओं के बीच समन्वय बनाने की कड़ी टूट गई है. ऐसे में नाराज चल रहे G23 के नेताओं को मनाने की जिम्मेदारी हाल ही में सोनिया गांधी ने मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को दी. साथ ही अहमद पटेल के निधन के बाद हाल ही हुए वर्किंग कमेटी की बैठक में प्रियंका गांधी ने ये बात बार बार दोहराया कि अहमद पटेल को सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी कि पार्टी एकजुट रहे.

बहरहाल कल की बैठक के बाद ये तय होगा कि आने वाले वक्त में कांग्रेस का नेतृत्व गांधी परिवार के हाथ मे ही रहेगा या फिर अगले अध्यक्ष को लेकर पार्टी दो भागों में बंटती दिखेगी.


Source link

Leave a Comment
Advertisement

This website uses cookies.